बच्चो में शिक्षा के साथ संस्कार भी जरूरी है :मणिप्रभ सुरीश्वर

बाड़मेर। खरतरगच्छाधिपति आचार्य जिन मणिप्रभसूरीश्वर म.सा. के प्रवेश के दूसरे दिन शनिवार को महावीर चैक प्रवचन सभा को सम्बोधित करते हुए कहा के बच्चो को पेन देने के साथ साथ यह भी ज्ञान देने की आवश्यकता है कि पेन का उपयोग कहा और कैसे करना हैं। उन्होने कहा कि बच्चो में शिक्षा के साथ साथ संस्कार भी देना जरूरी है। समाज मे युवाओ की बढ़ती नशा प्रवर्ति के बारे में कहा कि इसे समाज को पूर्ण रुप से बन्द करने का प्रयास करना चाहिये। आज हमारी हालत बस कंडक्टर की तरह हो गई है जो सफर तो बहुत करता है लेकिन मंजिल नही पाता है केवल सफर की करता रहता है। उन्होने समाज में नशा मुक्ति को लेकर अभियान चलाने की जरूरत बताते हुए कहा कि नशा मनुष्य को ही धीरे धीरे समाज को भी खोखला कर देता है। खरतरगच्छ संघ चातुर्मास कमेटी के केवलचन्द छाजेड इस अवसर पर उपाध्याय प्रवर श्री मनोज्ञसागर म सा ने कहा कि सत्य परेशान हो सकता है लेकिन पराजित नही सकता है आप भी सत्य का साथ दो तो समाज मे एकता आ आयेगी। धर्म,समाज,एवं गच्छ की रक्षा के लिए आपको सोने की तरह आग में तपना पड़ेगा तभी ही संघ में एकता होगी। इस अवसर विधायक मेवाराम जैन ने कहा कि सन्त समाज का आईना होते है,उनके बताये मार्ग पर चलने से ही समाज का विकास हो सकता है। जैन ने कहा कि इस आधुनिक युग में संस्कार गायब होते जा रहे है ये हमारे लिए विचारणीय मुद्दा है इस ओर सन्त ओर श्रावक दोनो को ध्यान देना होगा। खरतरगच्छ संघ चातुर्मास कमेटी के रतनलाल संखलेचा आचार्यश्री बाड़मेर से विहार कर बालोतरा की ओर रवाना हो गये। संखलेचा ने प्रवेश शोभायात्रा में प्रत्यक्ष ओर परोक्ष रूप में सहयोग करने वालो का आभार व्यक्त किया।


correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in

%d bloggers like this: