पुलिस से मांगी विक्की गोंडर और प्रेमा लाहौरिया एनकाउंटर की सारी जानकारियां

– एसपी और एडीएम से की मुलाकातें
श्रीगंगानगर। पंजाब के गैंगस्टर हरजिन्द्र सिंह उर्फ विक्की गोंडर तथा प्रेमा लाहौरिया व एक अन्य युवक शविन्द्र सिंह उर्फ डॉक्टर को विगत 26 जनवरी को पंजाब पुलिस द्वारा श्रीगंगानगर जिले के हिन्दुमलकोट थाना क्षेत्र में एक ढाणी में एनकाउंटर कर मार गिराये जाने की पूरी घटना की तमाम जानकारियां इन मृतकों के परिवार वालों ने श्रीगंगानगर जिला पुलिस से मांगी हैं। इस एनकाउंटर की प्रशासनिक जांच कर रहे एडीएम (प्रशासन) नखतदान बारहठ ने विगत दिवस इन तीनों मृतकों के परिवारजनों को नोटिस भेजा कि वे एनकाउंटर सम्बंधी बयान दर्ज करवाना चाहते हैं और अगर उनके पास इससे सम्बंधित किस तरह के तथ्य एवं साक्ष्य हैं, तो उन्हें 15 फरवरी को उपलब्ध करवा सकते हैं। इस नोटिस का जवाब देने से पहले विक्की गोंडर के पिता महल सिंह तथा प्रेमा लाहौरिया के भाई सहित 10-12 अन्य जने शुक्रवार को पंजाब से श्रीगंगानगर में आये। उन्होंने एडीएम को एक दरख्वास्त दी, जिसमें उन्होंने एनकाउंटर से सम्बन्धित अनेक प्रकार की जानकारियां मांगी। परिजनों का मानना था कि ये जानकारियां मिलने के बाद ही वे अपने बयान दर्ज करवा पायेंगे। एडीएम ने दरख्वास्त में मांगी गई जानकारियों को देखकर कहा कि यह सारा मामला पुलिस से सम्बन्धित है। लिहाजा वे पुलिस अधीक्षक से यह जानकारियां मांगें। दोपहर बाद यह सभी लोग पुलिस अधीक्षक हरेन्द्र महावर से मिले। उन्हेें जानकारियां देने की दरख्वास्त सौंपी। जानकारी के अनुसार एसपी ने यह दरख्वास्त लेकर रख ली। उन्होंने किसी तरह का कोई आश्वासन तक नहीं दिया। अलबत्ता परिजनों ने जब एडीएम व एसपी को दरख्वास्तें दीं, तो उन्होंने इसे रसीट किये जाने का नम्बर मांगा। यह नम्बर इन्हें सोमवार को देने की बात कही गयी है।
यह मांगी गई हैं जानकारियां
परिजनों ने पुलिस व प्रशासन के अधिकारियों को जो दरख्वास्त सौंपी है, उसमें बहुत सी जानकारियां मांगी गई हैं। इन जानकारियों में एनकाउंटर के बाद घटनास्थल की की गई वीडियोग्राफी, पोस्टमार्टम कार्रवाई की वीडियोग्राफी शामिल है। एनकाउंटर में पंजाब पुलिस के जितने भी अधिकारी व कर्मचारी शामिल थे, उन सबके नाम-ओहदे, इनके मोबाइल फोन नम्बर, इनके मोबाइल फोनो का ट्राइंगुलेशन रिकॉर्ड (कॉल डिटेल व लोकेशन) भी मुख्य रूप से शामिल हैं। इसी तरह पोस्टमार्टम की रिपोर्ट भी मांगी गई है। एनकाउंटर में पंजाब पुलिस के जो दो मुलाजिम घायल हुए थे, उनकी मेडिकल रिपोर्ट भी चाही गई है। एनकाउंटर के बाद राजस्थान पुलिस द्वारा जितने भी लोगों से पूछताछ की गई है, उनकी नकलें भी देने को कहा गया है। मौके पर से जब्त हुए हथियार व अन्य सामान की फर्द जब्तियों की नकल भी परिजनों ने मांगी है। बता दें कि इससे पूर्व 10-12 दिन पहले भी यह परिजन श्रीगंगानगर आये थे। तब उन्होंने एनकाउंटर की एफआईआर की नकल अदालत के जरिये प्राप्त की थी। उस समय भी यह परिजन एनकाउंटर से सम्बन्धित अनेक दस्तावेज और साक्ष्य जुटाने के लिए सक्रिय रहे थे। जानकारी के अनुसार शविन्द्र उर्फ डॉक्टर, जिसका कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं है, उसके परिजन इस एनकाउंटर को लेकर अभी तक कोई दिलचस्पी नहीं ले रहे। सारी भागदौड़ विक्की गोंडर और प्रेमा लाहौरिया के परिवार वाले कर रहे हैं। जानकारी के मुताबिक अगर यह तमाम जानकारियां 15 फरवरी तक परिजनों को मुहैया नहीं करवाई गई, तो वे इस दिन एडीएम के समक्ष हाजिर होकर बयान दर्ज करवाने व अन्य तथ्य उपलब्ध करवाने के लिए और समय दिये जाने की मांग कर सकते हैं।


correspondent

Sanjay Sethi

Sanjay Sethi

%d bloggers like this: