बड़े व्यापारी के ठिकानों पर इनकम टैक्स की रेड

– बढ़ सकता है रेड का दायरा, करोड़ों का काला धन पकड़े जाने की सम्भावना
श्रीगंगानगर। श्रीगंगानगर के एक बड़े कारोबारी के एक दर्जन से अधिक प्रतिष्ठानों व ठिकानों पर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के अधिकारियों ने दलबल सहित गुरुवार बड़े तड़के छापा मारा। अधिकारियों की टीमें सुबह करीब 6 बजे इस बड़े कारेाबारी मनोज गुप्ता के जी ब्लॉक स्थित निवास पर पहुंची। उस समय कारोबारी और उसके परिवार के सदस्य सोकर उठे भी नहीं थे। छापा पडऩे का पता चलते ही इस कारोबारी के और उसके परिवार के सदस्यों के होश उड़ गये। दो-तीन टीमें इस व्यापारी के परिवार के पुरुषों को साथ लेकर नई धानमण्डी स्थित उनकी फर्म नंदलाल महावीर प्रसाद, रिको उद्योग विहार में इनके कार्यालय तथा हनुमानगढ़ मार्ग पर नेतेवाला के पास हाल ही मनोज गुप्ता व अन्यों द्वारा खरीदी गई जमीन पर बनाई जा रही कॉलोनी थ्री स्टार रेजिडेंसी पर पहुंची। इन सब ठिकानों पर टीमों ने अपना पूरा कब्जा कर लिया। घर तथा प्रतिष्ठानों में से किसी को भी न तो बाहर आने दिया जा रहा है और न ही अंदर जाने दिया जा रहा है। दिनभर इन स्थानों पर भारी संख्या में पुलिसकर्मी तैनात रहे। इनके साथ महिला कांस्टेबल भी थीं। प्राप्त जानकारी के अनुसार इनकम टैक्स की यह रेड इनकम टैक्स के इंवेस्टीगेशन विंग द्वारा की गई है। यह कार्रवाई दो से तीन दिन चलने की सम्भावना है। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के उच्च पदस्थ सूत्रों ने संकेत दिये हैं कि मनोज गुप्ता ग्रुप की फर्मांे व कम्पनियों द्वारा श्रीगंगानगर में ही नहीं, बल्कि कईं और शहरों में भी हाल के दिनों में काफी चल और अचल सम्पत्तियों की खरीद-फरोख्त की है। लिहाजा इनकम टैक्स रेड का दायरा जयपुर, कोलकाता और गुजरात तक बढऩे की सम्भावना है। इस ग्रुप ने कुछ ही अरसा पहले श्रीगंगानगर में सूरतगढ़ रोड पर नेतेवाला के पास अच्छी-खासी जमीन खरीदी है। इस जमीन पर थ्री स्टार रेजिडेंसी कॉलोनी बनाई जा रही है। बताया जा रहा है कि इस कॉलोनी में शहर के ही नहीं, बल्कि बाहर के भी अनेक धन्ना सेठों ने मोटा पूंजी निवेश किया है। अब यह सभी धन्ना सेठ भी इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की रडार के नीचे आ गये हैं। जानकारी के अनुसार मनोज गुप्ता के परिवार की मुख्य फर्म नंदलाल महावीर प्रसाद के अलावा पांच-छह और फर्मंे भी हैं। यह फर्मंे कृषि जिन्सों के कारोबार के साथ-साथ एक्सपोर्ट तथा कॉलोनाइजर सैक्टर में भी है। यह ग्रुप तब पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय बना था, जब वर्ष 2013-14 में मनोज गुप्ता ने जयपुर में अढ़ाई सौ करोड़ की बोली लगाकर प्रोपर्टी खरीदी थी। बताया जाता है कि इसके बाद से इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने इस ग्रुप पर नजरें गढ़ा दी थीं। इसके कुछ समय बाद ही इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने मनोज गुप्ता की फर्मांे का आयकर सर्वे भी किया था। गुरुवार सुबह आरम्भ हुई रेड की मॉनिटरिंग आयकर विभाग के महानिदेशक (अन्वेंशन) एसके गुप्ता स्वयं कर रहे
हैं। इस कार्रवाई में श्रीगंगानगर के अलावा बीकानेर, सीकर व अन्य जिलों से आये साठ से अधिक ेआयकर अधिकारी व कर्मचारी शामिल हैं। यहां जी ब्लॉक स्थित मनोज गुप्ता के आवाास से महिलाओं को अंदर-बाहर नहीं जाने दिया जा रहा। सुबह परिवार की एक महिला को बेहद जरूरी होने पर आयकर अधिकारियों ने महिला सिपाही के साथ ही उसे बाहर भेजा, जो उसे बाद में वापिस ले आई। ज्ञात रहे कि पांच-छह वर्ष पहले जब ग्वार के भावों में अप्रत्याशित तेजी आई थी, तब ग्वार के प्रमुख कारोबारी व जमींदारा पार्टी के राष्ट्रीय
अध्यक्ष बीडी अग्रवाल के साथ कारोबार कर मनोज गुप्ता ने बड़ा मुनाफा कमाया था। बाद में मनेाज गुप्ता और बीडी अग्रवाल में आपसी विवाद उत्पन्न हो गये। इस विवाद में अमेरिका के ग्वारगम व्यापारी वाल्टर व्हाइट भी थे, जिनके साथ इनका अमेरिका की एक कोर्ट में प्रकरण अभी भी विचाराधीन है। मनोज गुप्ता ने तब अमेरिका की कोर्ट में एक हल्फनामा पेश किया था, जबकि यहां उसके विरुद्ध कोतवाली में यह झूठा हल्फनामा देने के आरोप में मुकदमा भी दर्ज हुआ था। आज हुई छापेमारी के सम्बंध में आयकर विभाग के अधिकारियों
का कहना है कि मनोज गुप्ता की फर्मांे द्वारा आय की तुलना में काफी कम इनकम टैक्स रिटर्न भरी जा रही थी। इसी कारण यह छापा मारा गया है, लेकिन अन्य जानकार सूत्रों का कहना है कि इनकम टैक्स की यह रेड एक शिकायत के चलते की गई है। रेड की कार्रवाई पूरी होने पर इनकम टेक्स डिपार्टमेंट उम्मीद कर रहा है कि मनोज गुप्ता की फर्मांे से करोड़ों का काला धन उजागर होगा। अगर काला धन पकड़ में आया तो इन फर्मांे के संचालकों व भागीदारों पर केन्द्र सरकार द्वारा हाल ही लाये गये नये कानून के तहत कार्रवाई होगी, जो पहले की अपेक्षा काफी सख्त है।


correspondent

Sanjay Sethi

Sanjay Sethi

%d bloggers like this: