एसीबी की गिरफ्त में सरपंच रविंद्र कुमार

पीएम आवास योजना में सरपंचों की कमीशन वसूली का भंडाफोड
सरदारपुरा जीवन का सरपंच रविंद्र रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार

श्रीगंगानगर। पीएम नरेंद्र मोदी पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गाँधी के उस वक्तव्य को लेकर कांग्रेस व दूसरे विपक्षी दलों पर अपने भाषणों में तंज कसते रहते हैं कि पहले की केंद्र सरकारें गांवों के विकास के लिए जो पैसा देती थीं,उसका 15 प्रतिशत ही गांवों तक पहुंचता था।बाकी 85 प्रतिशत बीच के बिचौलियों या कमीशनखोरी की भेंट चढ़ जाता था।मगर अब पूरा पैसा गांवों में सीधे पहुंचने लगने लगा है। पीएम मोदी के इन दावों की पोल आज श्रीगंगानगर में भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) द्वारा रिश्वत लेते हुए एक सरपंच के पकडे जाने से खुल गई।एसीबी की श्रीगंगानगर चौकी के प्रभारी, अवर एसपी राजेन्द्र प्रसाद ढिढारिया ने दोपहर करीब 12.30 बजे लालगढ़ जाटान गांव में बालाजी हीरो होंडा वर्कशाप पर ग्राम पंचायत सरदारपुरा जीवन के सरपंच रविंद्र कुमार को चक जमीयतसिंहवाला के हरदीप सिंह से 4500 की रिश्वत रंगे हाथों पकड लिया। सरपंच को पकडऩे के बाद एसीबी की टीम उसे पास में ही लालगढ़ जाटान के थाने में ले गई । अवर एसपी ने बताया कि परिवादी हरदीप सिंह के पिता जीत सिंह के नाम पीएम आवास योजना के तहत मकान निर्माण के लिए 1 लाख 47 हजार की राशि पंचायत समिति सादुलशहर से मंजूर हुई थी।इस राशि में से पहली किश्त के 30 हजार रूपये जीत सिंह को मिले तो सरपंच ने अपने कमीशन के दो हजार रूपए उसी समय जीतसिंह से ले लिए । अवर एसपी के अनुसार कुछ समय बाद जीतसिंह का असामयिक निधन हो गया। बाद में उसका पुत्र हरदीप सिंह सरपंच से बाकी राशि दिलवाने के लिए ताकि वह अधूरे रह गए मकान के निर्माण के पूरा करवा सके। सरपंच ने उसके नाम से बाकी राशि के लिए संशोधित स्वीकृति पंचायत समिति से दिलवाने और बाकी राशि 1 लाख 17 दिलाने की एवज में 9 हजार रूपये बतौर रिश्वत मांगे । हरदीप सिंह ने परसों गुरुवार को इसकी ब्यूरो में शिकायत कर दी। श्री ढिढारिया ने बताया कि जब शिकायत का सत्यापन किया गया तो परिवादी ने सरपंच से बातचीत के दौरान आग्रह किया कि उसके पिता का देहांत हो गया है, वह पहले से ही मुसीबत में है। वह कुछ तो रहम करें।इस पर सरपंच यह काम 4500 रूपए में करने को सहमत हो गया।सरपंच को आज यही रिश्वत की रकम लेते हुए पकड लिया गया।उन्होंने बताया कि परिवादी की पीएम आवास योजना के तहत स्वीकृत लोन की फाइल सादुलशहर में पंचायत समिति कार्यालय से जब्त कर ली गई है। अवर एसपी ने बताया कि पीएम आवास योजना में ग्रामीण क्षेत्रों के लिए डेढ लाख का लोन मिलता है।यह लोन मंजूर करवाने के लिए सरपंच 9 हजार रूपये लेते हैं। श्रीगंगानगर जिले में सरपंचों ने अपना इतना कमीशन तय किया हुआ है।सरपंचों की इस कमीशनखोरी ने साफ कर दिया है कि केंद्र या राज्य में किसी की भी सरकार रहे, जमीन स्तर पर हकीकत में हालात नहीं बदलते हैं हरदीप सिंह के केस में सरपंच कुछ रियायत को करने को इसलिए राजी हो गया क्योंकि इसमें लोन मंजूरी के मूल आवंटी का निधन हो गया था। सरपंच को कल एसीबी के स्पेशल कोर्ट के न्यायाधीश के समक्ष पेश किया जाएगा।


correspondent

Sanjay Sethi

Sanjay Sethi

%d bloggers like this: