झेंप मिटाने का प्रयास है रिफाइनरी का शुभारंभ करना : गहलोत

बीकानेर। पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अशोक गहलोत ने बाड़मेर जिले के पचपदरा में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा रिफाइनरी का शिलान्यास के स्थान पर शुभारंभ करने पर कटाक्ष करते हुए कहा कि यह मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का झेंप मिटाने का प्रयास है। श्री गहलोत ने आज बीकानेर में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि इस मामले में पीएम मोदी को गुमराह किया गया है। पहली बात तो यह है कि ऐसी स्थिति बननी ही नहीं चाहिए थी। शिलान्यास करके उसे दुबारा शुभारंभ करनाए यह हमारी संस्कृति में नहीं है। पहले चार साल तक काम बंद करने का पाप किया गया। जनता में बड़ा भ्रम फैलाया गया। उन्होंने कहा कि. पहले सवाल किया जाता था कि तेल हमाराए जमीन हमारीए पानी हमारा और बिजली हमारीए फिर 26 प्रतिशत की भागीदारी क्योंघ् अब मैं यही सवाल उनसे करता हूं कि 26 प्रतिशत भागीदारी क्योंघ् इसका कोई जवाब हैघ्श्री गहलोत ने कहा कि इससे राज्य सरकार की पूरी पोल खुल गई है। इस सरकार ने इस मामले में चार साल बर्बाद कर दिये। इतने समय में रिफाइनरी बन जाती और प्रधानमंत्री इसका उद्घाटन करने आते। कई पेट्रो केमिकल इकाईयां लग जातीं जिससे लाखों लोगों को रोजगार मिलता। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पर सीधा हमला बोलते हुए श्री गहलोत ने कहा कि सीएम ने कांग्रेस की बनाई योजनाओं को बंद कर दिया क्योंकि उन्हें लगता है कि इसका श्रेय कांग्रेस को नहीं मिल जाये। यह उनकी सामंती सोच है जिसकी वजह से समस्यायें पैदा हो रही हैं। उन्होंने श्रीमती राजे पर आरोप लगाय कि वह पूर्वाग्रह ग्रस्त होकर कार्य कर रही हैं। नकारात्मक सोच की वजह से वह सुशासन नहीं दे पाईं। इससे पहले विधानसभा में विपक्ष के नेता रामेश्वर डूडी ने राज्य की स्थिति खराब बताते हुए कहा कि राज्य का हर वर्ग दुखी है। किसानों के कर्जे माफ नहीं किये जा रहे हैंए जबकि भारतीय जनता पार्टी ;भाजपाद्ध शासित गुजरात और उत्तर प्रदेश में किसानों के कर्जे माफ किये गये हैं। कानून व्यवस्था चौपट हो गई हैए स्थिति यह है कि थाने के सामने ही हत्या हो जाती है और पुलिस को पता ही नहीं चल पाता। बलात्कार की घटनायें बढ़ रही हैं। शिक्षा के हाल बेहाल हैंए विद्यालयों को निजी क्षेत्र में दिया जा रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य सरकार अपने दायित्वों का निर्वाह नहीं कर रही है।


correspondent

Sanjay Sethi

Sanjay Sethi

%d bloggers like this: