स्व. रतनलाल जैन का देहदान

बीकानेर । स्व. रतनलाल जैन का देहदानी शव यात्रा जयनारायण व्यास काॅलोनी से प्रातः रवाना होकर देहदान हेतु सरदार पटेल मेडिकल काॅलेज सुबह 11.00 बजे पहुॅंची, जहाॅं महाविद्यालय के अतिरिक्त प्रधानाचार्य डाॅ. लियाकत अली गौरी, शरीर रचना विभाग के आचार्य एवं विभागाध्यक्ष डाॅ. मोहनसिंह, राकेश मणी, डाॅ. जसकरण सिंह सहित समस्त अधिकारियों, कर्मचारियों एवं रिश्तेदारों की उपस्थिति में मृत आत्मा की शान्ति हेतु प्रार्थना के उपरान्त मृत देह को दान स्वरूप शरीर रचना विभाग को सौंप दिया। स्व. श्री रतनलाल जैन 85 वर्ष के थे तथा उनका जन्म बीकानेर में हुआ। वे मेडिकल शाॅप के माध्यम से मेडिकल पेशे से जुड़े होने के साथ धार्मिक आस्थावान भी थे। स्व. जैन ने मरने से पूर्व इच्छा व्यक्त की थी कि मेरा शरीर मरणोपरान्त मेडिकल काॅलेज को दान कर दिया जायें, जिससे मेडिकल अध्ययनरत् विद्यार्थी नये-नये रिसर्च कार्य में मेरी देह का उपयोग कर सके। उनका अचानक निधन दिनांक 11 जनवरी, 2018 को हो गया। मरणोपरान्त उनके परिजनों ने स्व. श्री रतनलाल जैन की मृत देह सरदार पटेल आयुर्विज्ञान महाविद्यालय, बीकानेर को सौंपने का निर्णय लिया। स्व. अग्रवाल की धर्मपत्नि राजकुमारी, सुपुत्र राजेश जैन, धनेश जैन एवं सभी परिजनों ने उनकी अंतिम इच्छा को पूर्ण करते हुए सराहनीय कार्य के साथ अपने सामाजिक दायित्व का निर्वहन करते हुए अन्य लोगों हेतु समाज में प्रेरणामयी मिसाल कायम की। स्व. श्री रतनलाल जैन के परिवार से जुड़े जे.के. अग्रवाल ने अवगत करवाया कि स्व. जैन की अन्तिम यात्रा में उनका भरा-पूरा परिवार, मित्रगण, रामकिशोर रावत परिवार, सुरेश मल्होत्रा, मधूसूदन जैन, अनन्तवीर जैन, नवरतन सिंह तथा दिगम्बर जैन समाज के सभी गणमान्य एवं प्रबुद्धजन उपस्थित रहे तथा दानवीर श्री रतनलाल जैन जी के इस महत्ती कार्य की भूरि भूरि प्रशंसा की गई।


correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in

%d bloggers like this: