6 हजार कन्याओं को दिए 21 करोड के स्टैडी पैकेज

कन्या लोहिड महोत्सव में झलका सांस्कृतिक संगम
श्रीगंगानगर। देश में ही नहीं विदेशों में अपनी अनूठी पहचान बना चुके श्रीगंगानगर के कन्या लोहड़ी महोत्सव ‎ में इस बार सांस्कृतिक संगम झलका। सुखाडिय़ा सर्किल के समीप रामलीला मैदान में शाम सात बजे लोहिडी प्रज्ज्वलित किए जाने के साथ रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम आरंभ हुआ । हजारों लोगों ने इस कार्यक्रम का लुत्फ उठाया। इस बार जरूरतमंद एवं आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों की 6000 ‎ कन्याओं को विभिन्न शिक्षण संस्थाओं के सहयोग से लगभग 21 करोड़ के नि:शुल्क शिक्षा पैकेज दिए गए।पिछले वर्ष 4500 कन्याओं को 16 करोड के यह पैकेज दिए गए थे। महोत्सव में अनेक शिक्षण संस्थानों के छात्र- छात्राओं ने पंजाबी सभ्याचारक सहित राजस्थान, हरियाणा, जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश आदि राज्यों की संस्कृति का समावेश करते हुए कार्यक्रम पेश किए। शहीद बाबा दीपसिंह सेवा समिति और श्रीगंगानगर चैंबर अॉफ कॉमर्स के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित इस महोत्सव में हमेशा की तरह शहर की अनेक सामाजिक, धार्मिक, व्यापारिक और शिक्षा संस्थानों का इसमें सहयोग रहा । मुख्य अतिथि राजस्थान अल्पसंख्यक आयोग के चैयरमेन स.जसवीरसिंह रहे। राजस्थान हाऊसिंग बोर्ड के पूर्व चेयरमैन स.अजयपालसिंह, भाजपा के जिलाध्यक्ष हरीसिंह कामरा, यूआईटी अध्यक्ष संजय महिपाल, भाजपा जिला उपाध्यक्ष प्रहलाद राय टाक, महामंत्री उम्मेद सिंह राठौड, हरियाणा व्यापार कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष(राज्यमंत्री) रामशरण गर्ग ,स्वच्छ भारत अभियान के राजस्थान में ब्रांड एम्बेसडर केके गुप्ता, डॉ. मीता सिंह और स्वामी ब्रह्मदेव आदि विशिष्ट अतिथि रहे। स्वामी ब्रह्मदेव ने अाशीर्वचन में कहा कि कन्याओं को बचाने, पढाने और आगे बढाने से बढकर कोई दूसरा बडा पुण्य कार्य नहीं है । व. जसवीसिंह ने कहा कि श्रीगंगानगर की धरती सोना उगलती है, फलस्वरूप यहां कन्या लोहिडी महोत्सव जैसे आयोजनों की चमक पूरी दुनिया में फैल रही है केके गुप्ता ने कहा कि श्रीगंगानगर जिले की कन्याएं सौभाग्यशाली हैं कि उन्हें इस आयोजन से अपने सपने पूरे करने का मौका व लाभ मिल रहा है। रामशरण गर्ग ने इस महोत्सव के आयोजकों का साधुवाद करते हुए बताया कि हरियाणा व उत्तर प्रदेश की तरह जल्द ही राजस्थान में व्यापारी कल्याण बोर्ड गठित होने वाला है। इस बोर्ड के गठन से व्यापारी वर्ग और समृद्ध होगा । व्यापारी समृद्ध होगा तो इस तरह के महोत्सव और बडे पैमाने पर होगा। डॉ मीता सिंह ने कहा कि श्रीगंगानगर में कभी लिंगानुपात चिंताजनक स्तर पर आ गया था, जो कि न केवल कन्या लोहिडी महोत्सव के लगातार आयोजन से सुधरा बल्कि लिंगानुपात खाई को पाटते हुए श्रीगंगानगर जिले को अगरणी श्रेणी में ले आया है।अजयपालसिंह ने कहा कि कई वर्षों से इस महोत्सव के बारे में सुन रहा हूं, आज इसे देखकर जो खुशी- प्रसन्नता को शब्दों में बयान नहीं कर सकता। मुख्य अतिथि और विशिष्ट अतिथियों ने कन्याओं के लिए निःशुल्क स्टैडी पैकेज की लाटरियां निकालीं।मंच संचालन धन धन बाबा शहीद दीपसिंह सेवा समिति के मुख्य सेवादार तेजेंद्रपालसिंह टिम्मा ने किया । इस महोत्सव का सोशल मीडिया और केबिल टीवी पर लाइव टेलिकास्ट किया गया ।


correspondent

Sanjay Sethi

Sanjay Sethi

%d bloggers like this: