विद्यार्थी कैरियर को ऊंचाई तक ले जाने वाला मार्ग चुनें: उपराष्ट्रपति

जयपुर। उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कहा कि विद्यार्थियों को डिग्री के दौरान ही योजनाओं, पंचायतों और नगर निगमों आदि से जोड़ना चाहिये, ताकि उनकी नई सोच और ज्ञान का फायदा देश-प्रदेश को आगे बढ़ाने में मिले। उन्होंने कहा कि युवाओं के लिये हमारे देश में अनंत संभावनाएं हैं। वे अपने विवेक से ऎसा मार्ग चुनें जो ना केवल उनके कैरियर को नई ऊंचाइयों पर ले जाए बल्कि मानवता के कल्याण की राह भी प्रशस्त करे। नायडू शनिवार को मालवीय राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, जयपुर के 12वें दीक्षान्त समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने इस अवसर पर छात्र- छात्राओं को स्वर्ण पदक एवं विभिन्न श्रेणी में डिग्रियां प्रदान की। उपराष्ट्रपति ने कहा कि शिक्षा का महत्व तभी है, जब वह विद्यार्थी में सही-गलत और नैतिक व अनैतिक के बीच का अन्तर समझ सकने का विवेक पैदा करे। उन्होंने कहा कि हम विश्व में कहीं भी रहें, हमें अपनी मातृ भाषा, सभ्यता और संस्कृति को हमेशा याद रखना चाहिये। उन्होंने कहा कि दीक्षान्त समारोह किसी संस्थान और उसके विद्यार्थियों के लिए एक महत्तवपूर्ण मील का पत्थर है, लेकिन यह शिक्षा का अंतिम पड़ाव नहीं है। उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि यह याद रखें कि शिक्षा में कोई पूर्ण विराम नहीं होता, इसीलिये अपने ज्ञान को सदैव अपडेट करते रहना चाहिये। नायडू ने कहा कि भारत रत्न श्री मदन मोहन मालवीय महान स्वतंत्रता सैनानी और शिक्षाविद् थे, सत्य के प्रति उनकी निष्ठा हम सब के लिए प्रेरणा का स्रोत रही है। उन्होंने कहा कि विद्यार्थी अपने ज्ञान को वैश्विक स्तर तक ले जाएं, तभी वे ग्लोबल लीड़र बन पाएंगे। उन्होंने कहा कि ज्ञान ही शक्ति है, जिससे हम अपने जीवन, समाज और देश में सकारात्मक परिवर्तन ला सकते हैं। उन्होंने कहा कि युवा देश की गौरवशाली परंपरा के उत्तराधिकारी हैं, उन्हें अपने इतिहास से सीखना चाहिये।


Desert Time

correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in

%d bloggers like this: