हेरिटेज वीक के ग्रैंड फिनाले में बाड़मेर के कशीदाकारी उत्पादों की रही धूम

मशहूर डिजाइनर हेमंतत्रिवेदीने रेम्प पर उतारे कशीदाकारी परिधान
बाड़मेर। झूमने को मजबूर कर देने वाला शानदार संगीत और खूबसूरत कशीदाकारी लिबास से सजे-धजे मोडल्स का रेम्प पर आना जाना। बाड़मेर की स्टाइलिश कशीदाकारी परिधानों के कलेक्शन को प्रस्तुत करने का ये अंदाज सभी को बहुत पसंद आया। मशहूर डिजाइनर हेमंत त्रिवेदी द्वारा ग्रामीण विकास एवं चेतना संस्थान के सहयोग से प्रस्तुत किये गये इस कलेक्शन को देखने से उपस्थित सभी जनों को बाड़मेर की क्राफ्ट की समृद्धता का अहसास हो रहा था। यह नजारा राजस्थान हैरिटेज वीक के तहत हुए ग्रांड फिनाले फैशन शो का था। हैरिटेज वीक के अंतिम दिन कई डिजाइनरस द्वारा अपना कलेक्शन प्रस्तुत किया गया जिनमें यह कलेक्शन सबसे खास था। इसमें हर एक मोडल्स द्वारा पहने गये परिधान पर कशीदाकारी के अलग- अलग अंदाज को प्रस्तुत किया गया । हेमंत त्रिवेदी के साथ ग्रामीण विकास एवं चेतना संस्थान के अध्यक्ष रुमा देवी और सचिव विक्रम सिंह ने भी रेम्प पर शिरकत की।
कोन है हेमन्त त्रिवेदी – ग्रामीण विकास एवं चेतना संस्थान के अध्यक्ष विक्रम सिंह ने बताया की हेमंत त्रिवेदी फेशन भारत के ख्यातिनाम फेशन डिजाइनर, कोरियोग्राफरऔर एक्टर है। आपनेमिस वर्ड एश्वर्या राय, मिस वर्ड डायना हेडन, और मिस वर्ड प्रियंका चोपड़ा, लारा दता सहित अन्य कई मोडल्स को रेम्प पर उतारा है |हेमंत त्रिवेदी ने यु.के., यु.एस.ए., चाइना, इजिप्ट, श्री लंका, यू.ए.इ. आदि देशो कई बार फेशन शो में अपना कलेक्शन प्रस्तुत किया है। उन्हें लेक्मे इंडिया फेशन वीक – 2003 में उनके अद्भुत संग्रह के लिए 58 महान डिजाइनरों में से एक माना जाता है।हेमंत त्रिवेदीपहले और एकमात्र भारतीय डिजाइनर हैं जो यूरोपीय डिजाइनरस द्वारा प्रस्तुत यूरोपीय लेबल्स में अपना कलेक्शन प्रस्तुत करते है। इतने बड़े डिजाइनर द्वारा बाड़मेर के दस्तकारों द्वारा बनाये उत्पादों को रैम्प पर प्रस्तुत करना बाड़मेर के लिए बड़े गर्व की बात है। हेमंत त्रिवेदी ने बताया की उन्होंने कई प्रकार के कलेक्शन फेशन शो में प्रस्तुत किये है जिसमें से बाड़मेर की कशीदाकारी का कलेक्शन सबसे अलग है बाड़मेर की दस्तकार बहुत ही हुनरमंद है जो इतने सुंदर उत्पाद बनाती है।
किस तरह से तैयार किये जाते है कशीदाकारी परिधान
संस्थान अध्यक्ष रुमा देवी ने बताया की बाड़मेर की कशीदाकारी को आधुनिक स्टाइल के परिधानों पर उकेरना बड़ी मेहनत का कार्य है। संस्थान के मास्टर दस्तकारों द्वारा डिजाइन, फेब्रिक व परिधान की स्टाइल का सलेक्शन किया जाता है जिस पर बहुत ही दक्ष महिला दस्तकार हाथ से कशीदाकारी का कार्य करती है, कशीदाकारी के लिए धागे का सलेक्शन भी महत्वपूर्ण होता है। संस्थान द्वारा रेम्प पर ये उत्पाद बनाने वाले दस्तकारों को भी लेकर जाता है।
बाड़मेर की पारम्परिक क्राफ्ट का इस तरह फेशन जगत में नाम पाना दस्तकारों के भविष्य के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। वर्तमान में कशीदाकारी के पारम्परिक उत्पाद की मांग में बहुत कमी आ गई है। किसी बड़े उत्पाद पर कार्य करना दस्तकारों के लिए काफी मुश्किल होता है और मजदूरी भी कम मिलती है । परिधानों पर कार्य करना बहुत आसान होता है और दस्तकारों को अच्छी मजदूरी प्राप्त होती है जिस कारण दस्तकार और फेशन के चाहने वाले दोनों द्वारा इन परिधानों को खूब पसंद किया जा रहा है। राजस्थान हैरिटेज वीक में विभिन्न फेशन डिजाइन इंस्टिट्यूट के स्टूडेंट द्वारा भी लगातार इन परिधानों के निर्माण के बारे में जानकारी प्राप्त की जा रही हैजो बाड़मेर की कशीदाकारी के भविष्य के लिए बहुत अच्छी बात है। ग्रांड फिनाले कार्यक्रम में कशीदाकारी दस्तकार, उद्योग और राजनीती जगत से जुड़े लोग, विभिन्न प्रशासनिक अधिकारी, देश विदेश के डिजाइनरस, मोडल्स आदि सदस्य शामिल रहे।


correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in

%d bloggers like this: