बीकानेर: कैमल फैस्टिवल की तैयारियां शुरू

– 13-14 जनवरी को होगा फैस्टिवल
– जूनागढ़ महल से आरम्भ होगी शृंगारित ऊंटों की शोभायात्रा

श्रीगंगानगर। बीकानेर में जिला प्रशासन एवं पर्यटन विभाग द्वारा दो दिवसीय विश्वप्रसिद्ध ऊंट महोउत्सव 13 व 14 जनवरी को डॉ.करणीसिंह स्टेडियम में आयोजित किया जायेगा। जिला कलेक्टर अनिल गुप्ता ने शुक्रवार को बताया कि महोउत्सव के दौरान लोक संस्कृति से ओतप्रोत रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम, हैरिटेज वॉक, शोभायात्रा, अग्निनृत्य एवं आतिशबाजी सहित विविध आकर्षक कार्यक्रम होंगे। ऊंट महोत्सव के दौरान देशी-विदेशी पर्यटकों को मरु प्रदेश की कला, संस्कृति, खान-पान एवं अन्य समृद्ध परम्पराओं से रूबरू करवाया जाएगा। उन्होंने बताया कि महोत्सव की शुरूआत 13 जनवरी को जूनागढ़ से डॉ.करणी सिंह स्टेडियम तक शोभायात्रा से होगी। शोभायात्रा में राजस्थानी कलाकार पारम्परिक वेशभूषा में अपने फन का प्रदर्शन करते हुए चलेंगे, वहीं ऊंटों का लवाजमा के साथ श्रृंगारित ऊंट,
ऊंटों की उपयोगिता को दर्शाया जाएगा। सुबह आठ से दस बजे तक रायसर के धोरों में पर्यटक कैमल सफारी का आनंद ले सकेंगे। मेले का विधिवत उद्घाटन डॉ.करणीसिंह स्टेडियम में दोपहर साढ़े बारह बजे होगा। इसके बाद सेना और आर.ए.सी. का बैंडवादन, ऊंट श्रृंगार, ऊंट बाल कतराई, ऊंट नृत्य प्रतियोगिता, मिस मरवण एवं मिस्टर बीकाणा प्रतियोगिता होगी। शाम साढ़े छह बजे से आठ बजे तक रंगारंग राजस्थानी सांस्कृतिक प्रस्तुत किये जायेंगे।
दूसरे दिन 14 जनवरी को दोपहर बारह बजे डॉ.करणीसिंह स्टेडियम में देशी-विदेशी महिला-पुरुष पर्यटकों की रस्साकशी, ग्रामीण कुश्ती, कबड्डी का प्रदर्शनी मैच, विदेशी पर्यटकों की साफा बांधने की, ऊंटनी को दूहने की, महिला मटका, महिला म्यूजिकल चैयर एवं ऊंट नृत्य की प्रतियोगिता होगी। रात में विभिन्न अंचलों से आए कलाकार प्रस्तुतियां देंगे। महोत्सव के अंत में जसनाथी सम्प्रदाय के सुप्रसिद्ध अग्नि नृत्य और आतिशबाजी का आयोजन होगा।


correspondent

Sanjay Sethi

Sanjay Sethi

%d bloggers like this: