रेगुलेशन नहीं बदला तो किसान करेंगे कड़ा आंदोलन

– किसान समिति के आह्वान पर किसानों ने किया घेराव
श्रीगंगानगर। इन्दिरा गांधी नहर परियोजना के प्रथम चरण क्षेत्र की नहरों का रेगुलेशन किसानों द्वारा की जा रही मांग के अनुसार तब्दील नहीं किया गया, तो घड़साना में इस पूरे क्षेत्र के किसान कड़ा आंदोलन करेंगे। इस बार भी इस इलाके के किसान मौजूदा मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को 12-13 वर्ष पूर्व उनके ही शासन में किये गये कड़े आंदोलन की याद दिला देंगे। यह चेतावनी नई मण्डी घड़साना में मंगलवार को गंगानगर किसान समिति के आह्वान पर आयोजित किसानों की विशाल सभा में किसान नेताओं ने राज्य सरकार को दी। वक्ताओं ने साफ तौर पर चेताया कि अगर सरकार ने वक्त रहते प्रथम चरण क्षेत्र की नहरों को चार समूहों में बांटकर दो समूहों में पानी चलाये जाने की मांग को कबूल नहीं किया, तो इस इलाके में 12-13 वर्ष पहले की तरह किसान उग्र हो जायेंगे। तब कानून और व्यवस्था की स्थिति को सम्भालना मुश्किल हो जायेगा। एक लम्बे अरसे बाद नई मण्डी घड़साना क्षेत्र के किसानों के लिए आज पहली बार गैर राजनीतिक संगठन की ओर से इस सभा का आयोजन किया गया, जिसका आप पार्टी ने न केवल समर्थन किया,
बल्कि इस पार्टी के पदाधिकारियों-कार्यकर्ताओं ने बढ़-चढ़कर शिरकत की। जमींदारा पार्टी की वरिष्ठ नेता शिमलादेवी नायक एडवोकेट भी अपने समर्थकों
के साथ इस सभा में हाजिर हुई। आप पाटी के किसान विंग के नेता सत्यप्रकाश सिहाग और शिमलादेवी नायक के अलावा पिछले दिनों घड़साना में गठित की गई गंगानगर किसान समिति की 15 सदस्यीय कार्यवाहक कमेटी के सदस्यों ने गांवों में जोरदार जनसम्पर्क अभियान चलाकर आज की इस सभा को काफी हद तक कामयाब बनाया। सभा में गंगानगर किसान समिति के संयोजक रणजीत सिंह राजू, प्रवक्ता संतीवर सिंह मोहनपुरा, ग्लैक्सी बराड, विन्द्र सिंह, रायसिंहनगर ब्लॉक अध्यक्ष हरविन्द्र सिंह समाघ, श्रीबिजयनगर ब्लॉक अध्यक्ष राजा हेयर, श्रीकरणपुर ब्लॉक अध्यक्ष राजेन्द्र सिंह व मनप्रीत सिंह, घड़साना में गठित कार्यवाहक कमेटी के गुरभेज सिंह, कुलदीप सिंह मान चक 4 जीडी, वीर सिंह, नरेन्द्र सिंह मान, तारी बाबा, सरपंच जसपाल सिंह, जगमीत सिंह बराड़, सुखविन्द्र सिंह, सरपंच मोहनलाल नायक, राजू जाट, विक्रमजीत सिंह, शिमलादेवी नायक, सत्यप्रकाश सिहाग आदि अनेक वक्ताओं ने सम्बोधित किया। नई मण्डी में विशाल सभा करने के बाद सभी किसान रैली-जुलूस के रूप में एसडीएम कार्यालय पहुंचे, जहां उन्होंने गेट के सामने धरना लगा दिया। एसडीएम श्योराम वर्मा ने अपने कार्यालय से बाहर आकर किसान नेताओं की बात को सुना। किसान समिति की ओर से उन्हें दिये गये
ज्ञापन में चेतावनी दी गई है कि अगर रेगुलेशन को नहीं बदला गया, तो इस इलाके में कडा आंदोलन किया जायेगा।


correspondent

Sanjay Sethi

Sanjay Sethi

%d bloggers like this: