कागा खा गए काया…कैसे एक वृद्धा बनी श्वानों का निवाला !

– वृद्ध दायी की हत्या कर लाश टिब्बे में दबाई
– शक के दायरे में गोद लिया हुआ पुत्र व उसका भाई

श्रीगंगानगर। श्रीगंगानगर जिले के दूरवर्ती रावला थाना क्षेत्र में मण्डी 365 हैड के समीप ग्राम पंचायत चक 2 केएलडी में सोमवार सुबह बड़ी सनसनी फैल गई, जब रेत के टिब्बे में दबाई हुई एक वृद्ध महिला की लाश को कुत्तों-कव्वों को नौंचते हुए लोगों ने देखा। यह वृद्धा तीन दिन से गायब थी। यह पता चलते ही सरपंच राकेश मेहरिया तुरंत मौके पर आ गये। उन्होंने टिब्बे से बाहर निकले हुए एक हाथ व एक पांव को देखा। उनकी सूचना पर थानाप्रभारी करण सिंह राठौड़ घटनास्थल पर आ गये। पुलिस ने इसकी जानकारी तत्काल प्रशासनिक अधिकारियों को दी। घड़साना से उपखण्ड अधिकारी श्योराम वर्मा भी मौके पर आ गये। इन सब प्रशासनिक अधिकारियों की मौजूदगी में पुलिस ने शव को बाहर निकलवाया। यह शव करीब 65 वर्षीय शांतिदेवी का था, जो पास में ही अपनी ढाणी में रहती थीं। पुलिस ने बताया कि इस वृद्धा के साथ उसके पहले पति के दो पुत्र रहते थे, जो कि गायब हैं। इन्हीं दोनों युवकों पर वृद्धा की हत्या कर लाश को टिब्बे में दबा दिये जाने का शक किया जा रहा है। सरपंच राकेश मेहरिया की रिपोर्ट पर फिलहाल पुलिस ने अज्ञात जनों पर हत्या कर साक्ष्य नष्ट करने का मामला
दर्ज किया है। पुलिस ने मौके की कार्रवाई के बाद शव का रावला के सरकारी अस्पताल में मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करवाया। तत्पश्चात् शव को अस्पताल के मुर्दाघर में ही सुरक्षित रखवा दिया है। शांतिदेवी के पहले पति चिडिय़ासिंह को पंजाब से बुलवाया गया है। उसके आने पर हत्या का यह मामला और स्पष्ट हो पायेगा।


correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in

%d bloggers like this: