प्रबन्धन टकराव को शांति एवं सरलता से करें समाधान- मीना

कार्यक्रम में उपस्थिति अतिथि, सभा में उपस्थित प्रशासकीय अधिकारी।

प्रशासकों का सम्मेलन के समापन सत्र में बोले वक्ता
आबूरोड़। घर से लेकर परिवार तक और समाज से लेकर प्रशासकीय प्रबन्धन में हमेशा टकराव होता रहता है। इसके वजह से कार्य क्षमता पर असर पड़ता है। प्रबन्ध में आने वाले टकराव को शांति एवं सरला से हल किया जा सकता है। उक्त विचार श्रम न्यायालय के पीठासीन अधिकारी आइएएस अधिकारी सीताराम मीना ने व्यक्त किये। वे ब्रह्माकुमारीज संस्था के शांतिवन में प्रशासको के लिए आयोजित सम्मेलन के टॉक शो में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि अहंकार और पद पेाजीशन का रूतबा इस तरह की समस्याओं को जन्म देता है। अहम और टकराव से स्थिति भयावह हो जताी है। उत्तर कोरिया और अमेरिका के बीच बढ़ा विवाद की जड़ भी अहम ही है। जिससे आज पूरा संसार विनाश के मुहाने पर खड़ा है। ऐसे में शांति और सरलता एक ऐसा मूल्य है जिससे इस तरह की स्थितियों से निबटने में मदद करती है। ब्रह्माकुमारीज संस्था में सिखाया जाने वाला राजयोग इसमें बड़ी भूमिका निभाता है।

इस अवसर पर अतुल ग्रुप ऑफ कम्पनीज के निदेशक भरत त्रिवेदी ने कहा कि संगठन कितना भी बड़ा क्यों ना हो यदि हमारे पास दूसरों को सुनने और समझने की क्षमता होती है तो निश्चित तौर पर हमें इससे बाहर आने में निजात मिलती है। पारिवार की तरह ही संगठन को समझने से इसमें मदद मिलती है। कार्यक्रम में भारत संचार निगम लिमिटेड अहमदाबाद के प्रबन्धक सुरेश कोठारी ने कहा कि जब हम अपने अन्दर शांति और प्रेम को बनाये रखते हैं तब हमें इस तरह की परिस्थितियों से निकलने में मदद मिलती है। इसी तरह की परिस्थितियां ही हमें मजबूत बनाती है। इसलिए हमें अन्दर से मजबूत बनने के लिए राजयोग ध्यान का अभ्यास करना चाहिए। टॉक शो में उपस्थित लोगों के सवालों का जबाब देते हुए प्रशासक प्रभाग की राष्ट्रीय संयोजिक बीके अवधेश ने कहा कि इस तरह की समस्याओं का समाधान प्रत्येक व्यक्ति के अन्दर बैठे रावण को मारने से ही होगा। हम राम सरीखे तभी बन पायेंगे जब हमारे अन्दर दैवी मूल्य होंगे। कार्यक्रम में दिल्ली से आयी प्रशासक प्रभाग की जोनल इंचार्ज बीके उर्मित तथा सिंगरौली से आयी मानवाधिकार आयोग की जिला प्रभारी आशा गुप्ता ने लोगों से अपील की कि वे हर समस्या का समाधान टकराव के बजाए शांति से ढूढऩे का प्रयास करें। इस अवसर पर ब्रह्माकुमारीज संस्थान के पीआरओ बीके कोमल ने टॉक शो का प्रतिनिधित्व करते हुए लोगों को हर समस्या समाधान के लिए खुद को मजबूत करने की सलाह दी। समापन सत्र में प्रशासक प्रभाग के मुख्यालय संयोजक बीके हरीश, राष्ट्रीय अध्यक्ष बीके आशा, मधुबहन समेत कई लोगों ने अपने अपने विचार व्यक्त किये।


correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in

%d bloggers like this: