प्रदूषण : चिंता के बीच अच्छी खबर, ओजोन छेद हुआ छोटा

जयपुर । इंटरनेट के कारण जहां दुनिया सीमित होकर इंसान के हाथ में आ गई वहीं ब्रह्माण में कुछ ऐसी ही तकनीक आई या चमत्कार हुआ कि ओजोन में छेद छोटा हो गया । प्रदूषण को लेकर पूरी दुनिया में चिंता के माहौल के बीच यह एक अच्छी खबर हो सकती है । वैज्ञानिकों के अनुसार गर्म वायु के कारण हर साल सितंबर में अंटार्कटिक क्षेत्र के ऊपर ओजोन परत में छेद इस साल 1988 के बाद असाधारण रूप से सबसे छोटा पा गया है। ओजोन छेद में इस परिवर्तन के पीछे वैज्ञानिक अंटार्कटिक भंवर की अस्थिरता व ज्यादा गर्मी जोकि अंटार्कटिक क्षेत्र के वायुमंडल में दक्षिणावर्त बनने वाले समतापमंडलीय निम्न दबाव के कारण उत्पन्न होती है, को मानते हैं। बीकानेर लॉज के आगे एक पान की दुकान पर एक स्मार्ट फोन पर ओजोन छेद से जुड़ी यह अच्छी खबर सुनाई गई । अंटार्टिक क्षेत्र में हर साल बनने वाले ओजोन छेद में इस साल सितंबर में 1988 के बाद सबसे ज्यादा घटा पाया गया है। इंटरनेट के इस युग में नासा और नेशनल ओसनिक एंड एटमोस्फेरिक एडमिनिस्ट्रेशन (एनओएए) के वैज्ञानिकों की शुक्रवार को हुई इस आशय की घोषणा तत्काल कैलाश शर्मा के हाथ में आ गई जिन्होंने वहां उपस्थित लोगों को ज्ञात करवाया ।

Desert Time

correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in