‘पद्मावती’ पर क्या कहता है उमा भारती का पत्र

उमा भारती ने कहा, ‘आशंकाओं का लुत्फ मत उठाइए और वोट बैंक भी मत बनाइए। कोई रास्ता निकालकर बात समाप्त कर दें’
जयपुर । निर्माता-निर्देशक संजयलीला भंसाली की बहुचर्चित व विवादित फिल्म ‘पद्मावती’ पर केंद्रीय मंत्री उमा भारती के पत्र पर चर्चा का बाजार गर्म है । इस पत्र का खुलासा ट्विटर हुआ है । इस पत्र से एक नई बहस छिड़ गई है ।
पत्र का सारांश
उमा भारती ने खत में फिल्म मेकर की अभिव्यक्ति की आजादी का समर्थन किया और ये भी कहा कि इसकी कहीं तो एक सीमा होती है। उमा भारती ने आज साफ तौर पर कहा कि अलाउद्दीन खिलजी एक व्यवचारी हमलावर था और उसकी नजर पद्मावती पर थी। उसने चित्तौड़ को नष्ट कर दिया। इतना ही नहीं उमा भारती ने आजकल लड़कियों पर एसिड अटैक करने वालों को अलाउद्दीन खिलजी के वंशज बताकर उनकी जमकर आलोचना की।

उमा भारती ने खत में सवाल उठाया है कि उन्होंने फिल्म नहीं देखी है, लेकिन लोगों के मन में आशंकाओं का जन्म क्यों हो रहा है? उन्होंने कहा है कि इन आशंकाओं का लुत्फ मत उठाइए और वोट बैंक भी मत बनाइए। कोई रास्ता निकालकर बात समाप्त कर दें।


Desert Time

correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in

%d bloggers like this: