हाईकोर्ट जज ने कहा- मैं भी स्वयं को गोपाल मोहम्मद कह सकता हूं क्या?

-धर्म परिवर्तन मामले की हुई सुनवाई
जोधपुर। राजस्थान हाईकोर्ट के न्यायाधीश गोपालकृष्ण व्यास ने धर्म परिवर्चन कर शादी मामले की सुनवाई के बाद कई तल्ख बातें कहीं। उन्होंने कहा कि कल मैं भी स्वयं को गोपाल मोहम्मद कह सकता हूं क्या? हाईकोर्ट में एक हिंदू लड़की के छह महीने पहले धर्म परिवर्तन कर मुस्लिम लड़के से शादी करने के मामले की सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान न्यायाधीश गोपाल कृष्ण व्यास ने कहा कि कोई अपना धर्म परिवर्तन कैसे कर सकता है। इसके बारे में क्या नियम है? इस पर सरकारी वकील ने उन्हें बताया कि कुछ राज्यों में धर्म परिवर्तन करने के बारे में नियम बने हुए है, लेकिन राजस्थान में अभी तक यह नियम फाइलों में ही अटका है। व्यास ने निकाहनामे पर सवालिया निशान पर हुई बहस के बाद पुलिस को इसकी विस्तृत जांच कर रिपोर्ट पेश करने का आदेश दिया। युवती के परिजनों का कहना है कि निकाहनामे में तीन गवाहों के नाम और युवती की ओर से पेश किए गए शपथ पत्र में उल्लेखित तीन गवाहों के नाम में अंतर है। साथ ही युवती अपना निकाह तेरह अप्रेल को होना बता रही है, जबकि निकाहनामा चौदह अप्रेल का है। मामले में युवती को सात दिन के लिए नारी निकेतन भेजने का आदेश दिया गया है। साथ ही पुलिस को निकाहनामे की पूरी जांच करने के साथ राज्य सरकार से धर्म परिवर्तन करने के कानूनी प्रावधान पर जवाब मांगा है।


correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in

%d bloggers like this: