चाइल्ड लाइन एवं प्रशासन ने रुकवाया बाल-विवाह

श्रीगंगानगर। चाइल्ड हेल्पलाइन लाइन श्रीगंगानगर ने एक सूचना पर तत्परता से कार्रवाई करते हुए बाल विवाह के रुकवा दिया । हैल्पलाइन के समन्वयक त्रिलोक वर्मा ने बताया कि सोमवार देर शाम जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव से सूचना मिली की पदमपुर के समीप चक 4 ई ई ए (राजू वाली ढाणी) में बृजमोहन अपने नाबालिग पुत्र का विवाह कर रहा है। चाइल्डलाइन के टीम सदस्य दीपक सिंह, राकेश स्वामी ने इस सूचना का सत्यापन किया। सूचना सही पाये जाने पर चाइल्डलाइन ने पदमपुर के तहसीलदार संजय अग्रवाल,बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष एडवोकेट लक्ष्मीकांत सैनी, पदमपुर थानाधिकारी व अनूपगढ़ थानाधिकारी को लिखित पत्र जारी किया। तहसीलदार व दोनों थानों अधिकारी अनूपगढ़ जाब्ता लेकर पहुंचे।प्रशासन जब मौके पर पहुँचा तो शादी की तैयारिया चल रही थीं। जिसकी शादी होने जा रही थी,उसके बा बालिग होने के सबूत माँगे तो लड़के के परिजन सबूत के तौर पर ब दसवी कक्षा की अंकतालिका पेश कर पाए। उसमें लडके की जन्म तिथि 18 फरवरी1997 निकली । लडके की आयु विवाह योग्य 21 वर्ष नहीं मिली।श्री वर्मा ने बताया कि इस कार्यवाही के दौरान गांव के कई लोग इक्कठे हो गए और प्रशासन को घेर लिया। हालत नाजुक होते देख तहसीलदार व पदमपुर थाने के उपनिरीक्षक ने थाने से और पुलिस जाब्ता बुलाया। पुलिस जाब्ता आने के बाद हालत सामान्य हो सके।चाइल्ड लाइन की सजगता यह विवाह नहीं न हो सका। लडके की आज सायं शादी थी चक 4 ईईए से बारात गांव नाहरांवाली, अनूपगढ़ जानी थी। तहसीलदार ने लडके के परिवार वालों को लडके के विवाह योग्य 21 वर्ष पूर्ण होने तक विवाह नहीं करने के लिये पाबंद किया । मौका फर्द बना कर परिवार व रिश्तेदारों के हस्ताक्षर करवाए गए।तहसीलदार ने गिरदावर व पुलिस की लडके के परिवार वालों की निगरानी करने के लिये ड्यूटी लगाई है ताकि वह जगह बदलकर उसका का विवाह नहीं कर सकें। वर्मा ने बताया कि जांच- पडताल में लडकी भी नाबालिग पाई गई है।गॉंव-नाहरांवाली, जहाँ शादी का कार्यक्रम होना था वहां भी पुलिस की ड्यूटी लगाई है ताकि परिजन शादी न कर सके।उन्होंने बताया कि लडका-लडकी, दोनों के परिवार रसूखदार है।शिकायतकर्ता ने इसी वजह से न्यायालय के माध्यम से यह बाल-विवाह रुकवाने के लिये अर्जी दी थी।


correspondent

Sanjay Sethi

Sanjay Sethi

%d bloggers like this: