हनीप्रीत को गुरुसर मोडिया लाया गया

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedin

– डेरा प्रमुख के परिजनों के रूबरू पूछताछ
श्रीगंगानगर। डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की खास राजदार व कथित मुंहबोली बेटी हनीप्रीत को बुधवार देर शाम को हरियाणा पुलिस की स्पेशल इंवेस्टीगेशन टीम (एसआईटी) कड़ी सुरक्षा में श्रीगंगानगर जिले के गुरुसरमोडिया गांव में लेकर आई। आधा दर्जन से अधिक गाडिय़ों का काफिला शाम करीब 7 बजे गुरुसर मोडिया पहुंचा। यह काफिला सीधे गुरुसरमोडिया में डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम के नये बने आलीशान मकान पर
पहुंचा। इनमें से दो-तीन गाडिय़ां मकान में गईं, जबकि बाकी बाहर खड़ी रहीं। हनीप्रीत को गुरुसरमोडिया लाये जाने की सूचना स्थानीय पुलिस को आज
दोपहर हरियाणा पुलिस की ओर से दी गई। इसके बाद गुरुसर मोडिया गांव में स्थानीय पुलिस ने भी सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी। इसी सिलसिले में आज
बीकानेर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक विपिनचंद्र ने सुबह पहले हनुमानगढ़ और फिर श्रीगंगानगर में पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक की। हरियाणा पुलिस के आने पर हनीप्रीत की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर दिशानिर्देश दिये। हालांकि राजस्थान पुलिस के अधिकारी हनीप्रीत के बारे में कोई भी जानकारी मीडिया
को देने से बचते रहे। प्राप्त जानकारी के अनुसार हरियाणा पुलिस का काफिला शाम करीब 4 बजे सिरसा की ओर से हनुमानगढ़ जिले में प्रवेश हुआ। इसके बाद करीब छह बजे यह काफिला लालगढ़ जाटान थाना क्षेत्र के गांव लाधुवाला में दिखाई दिया। सूत्रों के मुताबिक कुछ देर के लिए यह काफिला लाधुवाला में रुका। अपुष्ट जानकारी है कि जब हनीप्रीत पंचकूला में हिंसा भड़कने के बाद भागते-छुपते फिर रही थी, तब उसे दो दिन लाधुवाला में भी शरण मिली थी। सूत्रों का कहना है कि जब हनीप्रीत सितम्बर माह के प्रथम सप्ताह में गुरुसर मोडिया में डेरा के स्कूल में लड़कियों के हॉस्टल में तीन-चार दिन
के लिए छुपी थी। उसी दौरान ही वह दो दिन लाधुवाला में भी रही। यहां इस बात की तस्दीक करने के बाद काफिला करीब 7 बजे गुरुसर मोडिया में पहुंचा। अंधेरा हो जाने के कारण एसआईटी के एसीपी मुकेश मल्होत्रा, जो इस पूरे मामले की जांच कर रहे हैं, डेरा प्रमुख के नये मकान तक पहुंचने का रास्ता भूल गये। मुकेश मल्होत्रा इससे पहले सितम्बर के तीसरे सप्ताह में हनीप्रीत की तलाश में छापा मारने के लिए आये थे। आज अंधेरे में पहुंचने
के कारण रास्ता भूल गये। जानकारी के अनुसार हरियाणा पुलिस के वहां आने से पहले पहुंचे हुए एक मीडियाकर्मी की मदद से ही वे डेरा प्रमुख के नये घर तक पहुंचे। इसके कुछ देर बाद इस घर से हरियाणा पुलिस की एक गाड़ी निकली, जो गांव मेें चली गई। करीब 15 मिनट बाद यह गाड़ी वापिस आई, तब उसके पीछे एक प्राइवेट गाड़ी भी थी। इस गाड़ी में कौन लोग थे, इसका पता नहीं चल पाया। खास बात ये भी रही कि जैसे ही हरियाणा पुलिस की गाडिय़ां गुरुसर मोडिया पहुंची, वहां डेरा प्रमुख के पुराने मकान, इसके नजदीक ही स्कूल व हॉस्पीटल के बाहर लगी मरकरी लाइटों को बंद कर दिया गया। इस पूरे इलाके में घुप्प अंधेरा हो गया। समझा जाता है कि ऐसा जानबूझकर किया गया, ताकि मीडियाकर्मी फोटो या वीडियो शूट न कर सकेें। बता दें कि हनीप्रीत को जब गिरफ्तार कर पंचकूला की कोर्ट में पेश किया गया था और उसे छह दिन के रिमांड पर भेजा गया था, उसी दिन ही एसआईटी ने उसे डेरा प्रमुख के पैतृक गांव गुरुसर मोडिया ले जाने की बात कही थी। कल मंगलवार को हनीप्रीत का तीन दिन का और रिमांड मिलने पर उसे आज देर शाम गुरुसर मोडिया लाया गया है। सूत्रों ने बताया कि एसआईटी इस नये मकान में डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की मां नसीब कौर, पत्नी हरजिन्द्र कौर, बेटे व अन्य परिवार वालों के आमने-सामने कर हनीप्रीत के बारे में सवाल-जवाब कर रही है। देर रात समाचार लिखे जाने तक एसआईटी की टीम डेरा प्रमुख के इस मकान में भी मौजूद थी। सूत्रों ने बताया कि यह टीम आज देर रात को ही वापिस पंचकूला रवाना होगी। वापिस जाते हुए हनुमानगढ़ में इस टीम के हनीप्रीत के भाई के ससुराल में भी जाने की सम्भावना है। हनीप्रीत ने दो दिन भाई के ससुराल में भी शरण ली थी। इस बीच यह भी जानकारी मिली है कि हनीप्रीत को आज देर शाम गुरुसरमोडिया लाये जाने से पहले एसआईटी उसे सुबह पंजाब के बठिंडा शहर में लेकर आई। इस बार हनीप्रीत को एसआईटी गुपचुप रूप से बठिंडा लेकर आई। बठिंडा के पास जंगीराणा गांव के एक मकान में उसे ले जाया गया। बताया जा रहा है कि हनीप्रीत जब फरार थी, तब वास्तव में इस घर में अपनी सहेली सुखदीप कौर के साथ रुकी थी। पंचकूला पुलिस ने दो दिन पहले बताया था कि पहली बार हनीप्रीत और सुखदीप कौर बठिंडा के जिस घर में पुलिस को ले गई थी, वास्तव में वहां यह दोनों नहीं रही थीं। उस समय इन दोनों ने झूठ बोला था।

correspondent

Sanjay Sethi

Sanjay Sethi

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com