दशहरे पर नीलकंठ ने दिया सुकून

बांसवाडा। वागड पक्षी दिवस के अवसर पर समूचे वाग्वर अचंल में लोग अलग-अलग स्थानो पर समूह रूप में शगुनी पक्षी नीलकंठ को देखने के लिए निकले । अपनी लोक परम्परा को अक्षुण्य रखने व पक्षी संरक्षण के उद्देश्य से वागड पर्यावरण संस्थान द्वारा इस अभिनव कार्यक्रम का आयोजन किया गया ।नीलकंठ के दर्शन को लेकर संस्थान के तत्वावधान में मुख्य कार्यक्रम का शुभारम्भ कागदी पिक अप से हुआ। यहाँ से विभिन्न संस्थाओं के पदाधिकारी वनेश्वर महादेव, भण्डारिया हनुमानजी मार्ग, समाईपुरा, सिंगपुरा क्षेत्र की 11 कि.मी. की जगंल यात्रा कर प्रकृति का आनन्द लेते हुए नीलकंठ को देखने निकले। मार्ग में नीलकंठ दिखते ही समूह की बांछे खिल गई । उडता हुए नीलकंठ की खूबसूरती हर किसी की ऑखो में बस गयी । इस अवसर पर सिंगपुरा में आयोजित गोष्ठी मे संस्थान के अध्यक्ष डॉ. दीपक द्विवेदी ने कहा कि प्रकृति को निकट से देखने का अद्भूत आनन्द है । नीलकंठ पक्षी ने वन यात्रा को रोचक बना दिया। अन्य पक्षी समूहों ने भी आनन्दित किया ।

क्षेत्रीय वन अधिकारी वीरेन्द्र सुखवाल ने कहा कि वागड पक्षी दिवस पक्षी संरक्षण की दिशा में सकारात्मक प्रयास हैं ।लायन्स क्लब के वरिष्ठ पदाधिकारी कान्तिलाल पटेल, टायनी टॉटस के निदेशक आर.के. अय्यर, भारत विकास परिषद की डॉ. आशा मेहता, संस्थान के वाईल्ड लाईफ फोटो ग्राफर तथा रोटरेक्ट पदाधिकारी यश सराफ, बचपन बचाओ फोर्स के अध्यक्ष आशुतोष मेहता, पार्षद सुरेश कलाल ने कहा कि वागड पक्षी दिवस से लोक परम्परा व संस्कृति संरक्षण के साथ पर्यावरण संरक्षण के प्रति जनचेतना का संचार हुआ है । सभी वक्ताओं ने एक स्वर मे कहा कि नीलकंठ को देखना अत्यन्त रोमांचकारी अनुभव रहा ।संस्थान के लखन खण्डेलवाल ने जडी-बूटियो के महत्व के बारे मे बताया । इस अवसर पर विभिन्न संस्थाओं के पदाधिकारी मदन मोहन मेहता, पकंज काटुवा, मनोज कुमार मून्दडा, कपिल पुरोहित, विशाल उपाध्याय, प्रदीप गेहलोत, हेंमन्त दोसी, के.के. सिंह, राधिका, हर्षिता, हिमांशु, किशोर, बापूलाल सहित स्कूली बच्चे उपस्थित थे। संस्थान के प्रवक्ता यश सराफ ने बताया कि संस्था द्वारा अलग-अलग समूहो मे उदयपुर रोड, दाहोद रोड, जयपुर रोड ,माही डेम रोड, रतलाम मार्ग पर चिन्हित स्थानो पर भागवत कुन्दन, लखन खण्डेलवाल, कपिल पुरोहित, अजय त्रिवेदी के नेतृतव में दल ने लोगों को नीलकंठ पक्षी दिखाते हुए उसकी विशेषताओं की जानकारी प्रदान की ।


correspondent

DESERTTIMES

DESERTTIMES

%d bloggers like this: