बिजली से चलने वाले ई रिक्शा, टैक्सी और बस को मिलेगा बढ़ावा: गडकरी

-केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री ने परिवहन मंत्री को सौंपी नई जिम्मेदारी
-गु्रप ऑफ मिनिस्टर का कार्यक्षेत्र बढाया

जयपुर। केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमांर्ग मंत्री नितिन गडकरी ने सड़क परिवहन के क्षेत्र में बेस्ट प्रेक्टिसों के अध्ययन के लिए परिवहन मंत्री युनुस खान की अध्यक्षता में गठित मंत्री समूह के कार्यक्षेत्र को बढाते हुए अब इसे विभिन्न राज्यों एवं केन्द्र सरकार के मध्य सड़क परिवहन सम्बन्धी मसलों के आम सहमति के आधार पर समाधान सुझाने की जिम्मेदारी सौंपी है। गडकरी ने गुजरात के बढोदरा शहर के होटल सूर्या पैलेस में हुई परिवहन विकास परिषद् की 38वीं बैठक में विभिन्न राज्यों के परिवहन मंत्रियों को सम्बोधित करते हुए यह जिम्मेदारी सौंपी।

आधुनिकबस पोर्ट निर्माण पर चर्चा

गडकरी ने कहा कि खान की अध्यक्षता में मंत्री समूह ने तारीफ के काबिल काम किया है और इस समूह की अनुशंसा के आधार पर केन्द्रीय मोटर व्हीकल एक्ट में संशोधन के लिए बिल संसद में लाया गया है। उन्होंने कहा कि आम व्यक्ति को अच्छी सुविधाएं देने के लिए आधुनिकबस पोर्ट का निर्माण किया जाना चाहिए। केन्द्र सरकार इसमें पूरी मदद करने को तैयार है। अभी केन्द्र द्वारा सरकार प्रोजेक्ट लागत का ढाई प्रतिशत पैसा इसकी कन्सल्टेंसी के लिए देने की योजना है, जिसे रिवाइज किया जाएगा और उसमें सुपरवीजन को भी रखा जाएगा। साथ ही राज्यों को बस पोर्ट के लिए एक रेडीमेड मॉडल टेण्डर और टेण्डर से वर्क ऑर्डर तक पूरी प्लानिंग का सैट प्रदान किया जाएगा ताकि उन्हें इसमें कोई दिक्कत नहीं आए।

पब्लिक ट्रांसपोर्ट को बढ़ाया जाएगा

गडकरी ने देश में पब्लिक ट्रांसपोर्ट के उपयोग को आने वाले वर्षाें में दोगुना करने का प्रयास करने को कहा ताकि सड़कों पर भीड़ में कमी आए और इससे सड़क दुर्घटनाओं में होने वाली मौतों में कमी आ सके। उन्हाेंने निर्बाध परिवहन, बिजली से चलने वाले ईरिक्शा, टेक्सी और बस को बढावा देने, परिवहन क्षेत्र में डिजिटल पेमेंट जैसे विभिन्न विषयाेंं पर विचार व्यक्त किए। उन्होंने परिवहन मंत्रियों को लंदन के इंटीग्रेटेड पब्लिक ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी का दौरा करने को कहा ताकि वहां की अच्छी पे्रक्टिस की संभावनाएं देश में अपनाई जा सकेें। परिवहन मंत्री खान ने इस अवसर पर कहा कि गु्रप ऑफ मिनिस्टर की अगली बैठक रायपुर में होगी। इसके अलावा लखनऊ में बैठक कर सभी पड़ोसी राज्याें के मसलों पर गहन मन्थन किया जाएगा। इसी प्रकार उत्तर पूर्वी राज्यों के परिवहन मंत्रियों की बैठक आसाम में होगी एवं इसके बाद गोवा मेंं बैठक की जाएगी। श्री खान ने कहा कि पड़ोसी राज्यों के साथ बैठक से सभी स्थानीय समस्याओं का समाधान वहीं हो जाएगा और बडे़ प्लेटफार्म का उपयोग अन्य महत्वपूर्ण विषयों में किया जा सकेगा।


Desert Time

correspondent

Hemant Bhati

Hemant Bhati

%d bloggers like this: