किसान आंदोलन 13वें दिन खत्म : आधी रात समझौता, आज से खुलेंगे रास्ते

-आंदोलनरत प्रदेशभर के किसानों की समस्या आखिर 13वें दिन खत्म हुई
-50 हजार तक का कर्ज माफ करने की बात पर सहमति बनी

सीकर। अखिल भारतीय किसान सभा का महापड़ाव बुधवार आधी रात 12:30 बजे उठा लिया गया। सरकार के साथ दूसरे दिन बुधवार को हुई वार्ता में 50 हजार तक का कर्ज माफ करने की बात पर सहमति बनी। इससे सरकार पर 20 हजार करोड़ रुपए का भार पड़ेगा। प्रमुख मांगों में स्वामीनाथन आयोग की 80 प्रतिशत से अधिक सिफारिशें लागू करने, लागत मूल्य से 50 फीसदी अधिक समर्थन मूल्य रखने के लिए केन्द्र को पत्र लिखने की मांग सरकार ने मानी।

दूध की सप्लाई नहीं हो पाई, बसों को 30 लाख का नुकसान
श्रीगंगानगर में चक्काजाम के कारण बुधवार को 5 लाख 20 हजार लीटर दूध की सप्लाई नहीं हो पाई। करीब 13 करोड़ मूल्य का 300 ट्रक सामान जाम में फंसा हुआ है।  रोडवेज को 12 लाख और निजी बस ऑपरेटर यूनियन को बसों का संचालन नहीं होने से 15 लाख रुपए का नुकसान हो चुका है।

13 दिन से जारी आंदोलन
किसान अपनी 11 सूत्री मांगों को लेकर 13 दिनों से आंदोलन जारी था। लेकिन बुधवार देर रात सहमति बनी। किसान पहले कृषि मंडी में महापड़ाव देकर बैठे रहे। सरकार के फिर भी नहीं जागने पर किसान पिछले तीन दिनों से सड़कों पर टैंट लगाकर बैठे हुए हैं।


correspondent

DESERTTIMES

DESERTTIMES

%d bloggers like this: