रिश्वत लेकर फंसाने चला था, खुद फंस गया

– एसआई को एसीबी ने 25 हजार लेते पकड़ा
-दुष्कर्म का मामला
-रिश्वत लेते हुए सब इंस्पेक्टर गिरफ्तार

श्रीगंगानगर। दुष्कर्म के एक मामले में आरोपित के विरुद्ध ठोक-बजाकर जांच कर उसके खिलाफ अदालत में चालान तक पेश कर देने की कार्रवाई के बदले पीडि़त महिला के रिश्तेदार से रिश्वत लेते हुए सब इंस्पेक्टर को भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने आज रंगे हाथ पकड़ लिया। यह सब इंस्पेक्टर दूसरे को फंसाने चला था, लेकिन खुद बेहद संगीन मामले में फंस गया। यह कार्रवाई भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के अवर एसपी रजनीश पूनिया की अगुवाई में नई मण्डी घड़साना में सुबह करीब साढ़े 8 बजे की गई। घड़साना
में अनाज मण्डी में किराये के एक मकान में रह रहे सब इंस्पेक्टर बच्चन सिंह भाटी (56) ने कुछ ही मिनट पहले पीडि़त महिला के जेठ आमीन खां निवासी कंकराला (बीकानेर) से रिश्वत के 25 हजार रुपये लेकर अलमारी में रखे थे। इशारा मिलते ही रजनीश पूनिया की टीम ने छापा मार दिया। टीम ने जैसे ही बच्चन सिंह भाटी को पकड़ा, वह काफी तिलमिलाया, लेकिन उसकी एक नहीं चली। तलाशी लेने पर अलमारी में रखे 25 हजार रुपये बरामद हो गये। उसके हाथ धुलवाये तो रिश्वत का गुलाबी रंग भी उतर आया। एसआई भाटी के पकड़े जाने का पता चलते ही नई मण्डी घड़साना थाना में खलबली मच गई। थानाप्रभारी विक्रम चौहान के चेहरे की भी हवाइयां उड़ गईं। एसीबी की टीम ने मौके पर ही सारी कार्रवाई पूरी की। उधर, बीकानेर में एसीबी की पुलिस अधीक्षक ममता बिश्रोई ने एक अलग टीम को बच्चन सिंह भाटी के पैतृक गांव जैमलसर में उसके घर की तलाशी लेने के लिए रवाना कर दिया। भाटी को ब्यूरो की श्रीगंगानगर स्थित विशेष अदालत में कल गुरुवार को पेश किया जायेगा। उसे घड़साना से एसीबी की टीम कल सुबह ही श्रीगंगानगर लेकर आयेगी।
थानाधिकारी के नाम पर रिश्वत
एसीबी के सूत्रों के अनुसार आमीन खां ने 11 सितम्बर को बीकानेर में बच्चन सिंह भाटी द्वारा रिश्वत मांगने की शिकायत की थी। अगले दिन एसपी ममता बिश्रोई ने इसके सत्यापन की जिम्मेवारी अवर एसपी राजनीश पूनिया को सौंपी। उन्होंने शिकायत का सत्यापन करवाया, जिसके तहत आमीन खां-बच्चन सिंह में रिश्वत के लेनदेन की बातचीत को गुप्त रूप से रिकॉर्ड करवाया। इस बातचीत में थानाप्रभारी विक्रम चौहान का भी नाम आया है। अवर एसपी रजनीश पूनिया ने इसकी पुष्टि की है। बताया जा रहा है कि बच्चन सिंह भाटी ने आमीन खां को रुपये लेकर आने के लिए कहा था। इसके लिए उसने थानाप्रभारी का ही हवाला दिया। उसका कहना था कि यह रुपये थानाप्रभारी को देने हैं। श्री पूनिया ने कहा कि अब यह जांच की जायेगी कि यह रिश्वत भाटी ने वास्तव में
थानाप्रभारी के कहने पर मांगी थी या फिर उसने अपनी ओर से ही थानाप्रभारी का नाम लिया था। इस बाबत थानाप्रभारी से भी पूछताछ होगी। अगर वे दोषी पाये गये तो उन पर भी कार्रवाई होगी।
एक लाख की संदिग्ध राशि मिली
पुलिस महकमे में सिपाही के रूप में भर्ती हुए बच्चन ङ्क्षसह भाटी के पैतृक घर की तलाशी में एसीबी को कुछ विशेष हासिल नहीं हुआ, लेकिन इधर, घड़साना में धानमण्डी में भारत गैस एजेंसी के पास वह जिस मकान में किराये पर रह रहा था, उसकी तलाशी लेने पर एक लाख 2 हजार की संदिग्ध रकम मिली है। अवर एसपी पूनिया ने बताया कि इस राशि के बारे में पहले तो भाटी ने कोई
संतोषजनक जवाब नहीं दिया, लेकिन फिर उसने कहा कि यह रकम उसने अपने एक जानकार से लेकर रखी हुई थी। रकम उसने किसलिये ली थी, इसका उसके पास जवाब नहीं है। जिस जानकार से रकम लेना बताया, उसने रकम भाटी को देने से इंकार
किया है। इसकी तस्दीक कर ली गई है। लिहाजा इस राशि को भी एसीबी ने संदिग्ध मानते हुए जब्त कर लिया। उस पर आय से अधिक सम्पत्ति अर्जित करने का मामला भी बन सकता है।
यह है पूरा प्रकरण
नई मण्डी घड़साना थाना में पांच-छह दिन पूर्व एक महिला ने मुकदमा दर्ज करवाया था कि विगत रात्रि मुनाफ खां नामक शख्स ने उसे पहले फोन किया। इसके कुछ देर बाद वह अपनी गाड़ी लेकर उसके घर आ गया। रात को वह घर में अकेली थी। मुनाफ ने उसके साथ जबरदस्ती दुष्कर्म किया। उसके शोर मचा देने पर आसपास के लोग आ गये, जिस पर मुनाफ भाग गया। पीडि़ता ने घटना के एक दिन बाद यह मामला दर्ज करवाया। उस दिन थानाप्रभारी विक्रम चौहार अवकाश पर थे। कार्यवाहक थानाप्रभारी बच्चन सिंह भाटी ही थे। लिहाजा वे ही इस मामले की जांच कर रहे थे। आमीन खां, इस पीडि़ता का जेठ है। उसने एसीबी को शिकायत
की थी कि मुनाफ खां के विरुद्ध जांच कर अदालत में चालान तक पेश कर देने की कार्रवाई के बदले बच्चन सिंह भाटी उनसे रिश्वत की मांग कर रहा है। इस पर एसीबी ने एसआई भाटी को जाल बिछाकर आज सुबह रिश्वत लेते हुए पकड़ लिया। वह चार वर्ष बाद रिटायर होने वाला था। अब उसकी रिटायरमेंट काफी तकलीफदेह हो गई है।


correspondent

Sanjay Sethi

Sanjay Sethi

%d bloggers like this: