अब शहरी क्षेत्र के स्कूल भी बनेंगे आदर्श

बीकानेर। शहरी क्षेत्रों की स्कूलों को भी गांवों की तर्ज पर आदर्श विद्यालय के रूप में विकसित किया जाएगा। इनमें चारदीवारी, ग्रीन बोर्ड, लहर कक्ष, खेल मैदान, सौंदर्यकरण, पौधारोपण, पेयजल सुविधा, संस्थापन परिचय, शौचालय सहित समस्त उपलब्ध करवाई जाएंगी। जिला कलक्टर अनिल गुप्ता ने बुधवार को राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान रमसा की बैठक में यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पहले चरण में शहरी क्षेत्र के 13 विद्यालयों का चयन किया गया है। इनमें बीकानेर शहर की ग्यारह तथा नोखा एवं श्रीडूंगरगढ़ की एक-एक स्कूल सम्मिलित है। उन्होंने कहा कि संबंधित स्कूलों के प्रधानों को पत्र भेजते हुए मार्च 2018 तक सभी व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के लिए पाबंद किया जाए। उन्होंने कहा कि शिक्षा विभाग के अधिकारी स्कूलों का दौरा करें तथा प्रगति का जायजा लें।
अक्षय पेटिका में आए 2 लाख 20 हजार- स्कूलों में आधारभूत सुविधाओं के विकास के लिए जिले के 337 स्कूलों में अक्षय पेट्टिकाएं लगाई गई हैं। रमसा के एडीपीसी हेतराम सारण ने बताया कि अक्षय पेट्टिकाओं के माध्यम से अब तक 2 लाख 20 हजार 590 रूपये का आर्थिक सहयोग प्राप्त हो चुका है। वहीं, जिला एवं ब्लॉक स्तर पर हुए तीन दिवसीय कार्यक्रम के दौरान लगभग डेढ़ लाख रूपये दानदाताओं, भामाशाहों एवं सरकारी कार्मिकों द्वारा प्राप्त हुए।


correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in

%d bloggers like this: