साहिल की डायरियां व लैपटॉप एसीबी के हाथ लगे

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedin

– जांच की आंच पूर्व मंत्री राधेश्याम तक पहुंचने की सम्भावना
श्रीगंगानगर। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो द्वारा स्पूफिंग कॉल से करोडों रुपये की चौथवसूली की डिमांड करने के आरेाप में गिरफ्तार किये गये साहिल राजपाल की दो डायरियां और दो लैपटॉप काफी राज उगलने जा रहे हैं। अब इस जांच की आंच साहिल राजपाल के दादा, पूर्व मंत्री एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता राधेश्याम तक पहुंचने की सम्भावना हो गई है। इस मामले की जांच कर रही एसीबी की टीम ने जयपुर में जालुपुरा थाना क्षेत्र में सरकारी क्वार्टर से साहिल राजपाल के जब्त किये गये सामान में दो लैपटॉप व दो डायरियों को आज खंगालना शुरू किया। जब्त की गई एक डायरी में एसीबी में कुछ ऐसा मिला, जो साहिल राजपाल द्वारा एसीबी अधिकारी बनकर चौथवसूली के लिए कॉल करने का एक अकाट्य सबूत बन गया है। जांच कर रही एसीबी की एसपी तेजस्वनी गौतम ने आज रात बताया कि एक डायरी में साहिल राजपाल द्वारा लिखी हुई पंक्तियां मिली हैं। यह पंक्तियां उसने एसीबी का अधिकारी बनकर स्पूफिंग कॉल करने के लिए स्क्रिप्ट के रूप में लिखी थीं। उसने डायरी में स्क्रिप्त लिखकर व उसके अनुसार बोलने का अभ्यास भी किया। स्क्रिप्ट में साहिल ने लिखा है.. ‘हैल्लो, मैं शंकरदत्त शर्मा एसीबी का एडिशनल एसपी बोल रहा हूं। आपके केस के बारे में बात करनी है।Ó इस तरह उसने आगे बातचीत की पूरी स्क्रिप्ट लिखी हुई है। ऐसा साहिल ने इसलिए किया ताकि वह जब एसीबी का ऑफिसर बनकर फोन कॉल करेे, तो सामने वाले को उस पर जरा भी शक ना हो। एसपी तेजस्वनी ने बताया कि इस डायरी को साहिल राजपाल के लिखावट के नमूने के साथ हैंडराइटिंग एक्सपर्ट को भेजा जा रहा है। ताकि पुख्ता किया जा सके कि यह राइटिंग उसी की है। उन्होंने बताया कि इन डायरियों में वैसे तो काफी कुछ लिखा हुआ है, लेकिन उनके केस से सम्बन्धित जो स्क्रिप्ट लिखी हुई है, वहीं उनके काम की है। एसपी तेजस्वनी ने बताया कि इस सरकारी क्वार्टर में साहिल राजपाल के सामान में दो लैपटॉप और डोंगल आदि भी मिले हैं। इनको भी डाटा चैक करने और डिलीट किये हुए डाटा को रिकवर करने के लिए एफएसएल व सायबर सैल को भिजवाये जायेंगे। आज भी साहिल राजपाल से एसीबी के अधिकारी पूछताछ करने में लगे रहे। दूसरी तरफ एसीबी ने चौथवसूली का मुकदमा दर्ज करवाने वाले पीएचईडी के एईएन सीएल जाटव के बयान दर्ज किये गये। जाटव ने बताया कि विगत जनवरी माह में उसे रुपये देने के लिए कॉल आई थीं। उसने डेढ़ लाख रुपये साहिल राजपाल को दिये थे। इस बीच एसपी तेजस्वनी ने बताया कि साहिल राजपाल के मोबाइल फोन में जिन-जिन अधिकारियों के नम्बर पाये गये हैं, उनके साथ साहिल के किस तरह के सम्बंध थे, इसकी भी जांच-पड़ताल होगी। उन्होंने कहा कि इस मामले में जो भी लोग जुड़े हुए हैं या जिनका किसी भी तरह का सम्बंध हैं, उन सबसे पूछताछ व उनके बयान दर्ज करने में यह बात विशेष रूप से पूछी जा रही है कि कहीं  हिल राजपाल ने उनसे रुपयों की वसूली करते या उनके ट्रांसफर अथवा किसी तरह का कोई और काम करवाने के लिए अपने दादा राधेश्याम के रुतबे, प्रभाव का जिक्र या इस्तेमाल तो नहीं किया। उन्होंने कहा कि इस बात को विशेष रूप से देखा जा रहा है। एसीबी के सूत्रों के अनुसार इस मामले में जांच जिस तरह से आगे बढ़ रही है, उससे न केवल पूर्व मंत्री राधेश्याम, बल्कि उनके तीनों पुत्रों व परिवार के अन्य सदस्यों को भी एसीबी पूछताछ के लिए तलब कर सकती है।

correspondent

Sanjay Sethi

Sanjay Sethi

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com