क्रोध व जिद्द मानव की सबसे बड़ी बुराइयां- श्री

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedin

महावीर काॅलेज फाॅर बेसिक नाॅलेज के पहले सत्र में उमड़ा अपार जनसमुह
बाड़मेर। इतनी शक्ति हमें देना दाता मन का विश्वास कमजोर हो ना… भजन के साथ आचार्य देेवेश श्री जिनपीयुषसागरसूरिजी म.सा ने चातुर्मास का मंगलकारी मंगलाचरण के साथ ही स्थानीय जिनकांतिसागरसूरि आराधना भवन में उपस्थित जन समुदाय को भावविभोर कर दिया। प्रखर प्रवचनकार मुनि सम्यकरत्नसागरजी महाराज ने सर्वमंगलमय वर्षावास 2017 के अन्तर्गत भगवान महावीर काॅलेज फाॅर बेसिक नाॅलेज सत्र के तहत् कांतिसागरसूरि आराधना भवन में उपस्थिति जनसमुदाय को संबोधित करते हुए कहा कि मानव जीवन की दो सबसे बड़ी बुराईयां है पुरूष का गुस्सा व औरत की जिद्द। पुरूष अपने गुस्से से परेशान है तो औरत अपनी जिद्द से। पुरूष अगर गुस्सा करना छोड़ दे व औरत जिद्द करना छोड़ दे तो ये संसार स्वर्ग बन जाये। चीन की दिवार बनने में कई वर्ष लग गये लेकिन जिद्द की दिवार बनाने में दो सैकेण्ड लगते है। चाइना की दिवार को प्रयास करे तो तोड़ा भी जा सकता है लेकिन जिद्द दिवार को तोड़ना मुमकिन ही नहीं नामुमकिन है। नारी अपनी जिद्द पर आ जाये, अपने हठाग्रह पर आ जाये, कदाग्रह पर आ जाये तो परिवार का विघटन होने से कोई नहीं रोक सकता है। जिस तरह से किक्रेट के मैदान में वाइड बाॅल खेलना गलत है वैसे ही मानव जीवन रूपी किके्रट के मैदान में वाइड बाॅल न खेले। जीवन में ऐसे कई प्रसंग बनते है जो वाइड बाॅल जैसे होते है जो इस वाइड बाॅल के चक्कर में पड़ जाता है वो अपने सद्गुणों का नाश किए बगैर नहीं रह सकता है। होटल, रेस्टोरेंट, व्हाट्सअप, फेसबुक, आदि आंखों की वाइड बाॅल है, विलासी गीत कान के लिए व मिस युनिवर्स, शेयर बाजार आदि में अपने मन-वचन-काया को जोड़ दिया तो हमारे संस्कारों का स्वाहा हो जायेगा तथा हमारे पतन के दरवाजे खुल जायेगें। शेयर बाजार में जाने वाला व्यक्ति जाता ंिसह की तरह है तथा बाहर आता है गीदड़ की तरह। जो इन वाइड बाॅल के चक्कर में आ जाता है उसे रन मिले या न मिले लेकिन विकेट जरूर गंवा देता है। जैन दर्शन में शेयर बाजार को हेयर सेलून की तरह बताया गया है जिस तरह से व्यक्ति सेलून की दुकान पर जाता है तब उसके सिर पर बहुत सारे बाल होते है तथा वापिस आता है तब या तो बाल कम होगें या फिर होगे भी नहीं उसी तरह से शेयर बाजार में जाना वाला व्यक्ति जैसा जाता है वैसा लौटकर नहीं आता है।

correspondent

indar barupal

indar barupal