आर्थिक सुधारों से भारत होगा 21वीं सदी का सरताज: मेघवाल

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedin

जीएसटी क्रियान्वयन पर केन्द्रीय वित्त राज्यमंत्री की समीक्षा बैठक
उदयपुर।  जीएसटी की सफल क्रियान्विति को लेकर केन्द्रीय वित्त एवं निगमित मामलात राज्य मंत्री अर्जुनराम मेघवाल की अध्यक्षता में रविवार को उदयपुर संभाग के वाणिज्यिक कर एवं केन्द्रीय उत्पाद शुल्क अधिकारियों तथा व्यावसायिक संगठनों की मौजूदगी व्यापक विचार-विमर्श के साथ ही जीएसटी के महत्वपूर्ण तकनीकी पहलुओं का आदान-प्रदान हुआ। कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित परिचर्चा बैठक में उदयपुर सांसद अर्जुनलाल मीणा, चित्तौड़गढ़ सांसद सी.पी.जोशी, जिला प्रमुख शांतिलाल मेघवाल, जिला कलक्टर बिष्णुचरण मल्ल्कि, केन्द्रीय उत्पाद शुल्क आयुक्त सी.के.जैन एवं राज्य कर विभाग की संयुक्त आयुक्त सुश्री प्रज्ञा केवलरमानी सहित बड़ी संख्या में संभाग के अधिकारी एवं व्यापारिक संगठनों के पदाधिकारी मौजूद रहे।
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के निर्देश पर देशभर में जीएसटी की क्रियान्विति पर व्यावहारिक समस्याओं की जानकारी एवं सुझावों को लेकर देशभर में 40 मंत्रियों एवं प्रशासनिक अधिकारियों के दौरे किए जा रहे हैं। इसी के अंतर्गत संभाग स्तरीय बैठक का आयोजन उदयपुर में हुआ।बैठक में राजस्थान के लिए नियुक्त प्रभारी केन्द्रीय वित्त राज्यमंत्री अर्जुनराम मेघवाल ने कहा कि जीएसटी के रूप में समूचे देश के लिए आर्थिक सुधार की दिशा में इन्फॉर्मल इकॉनामी को फॉर्मल इकॉनामी से जोड़ने का ऐतिहासिक कदम उठाया गया है। उन्होंने कहा कि 21वीं सदी एशिया की है ऐसे में उत्कृष्ट आर्थिक सुधारों के जरिए भारत इंग्लैंड, जापान, फ्रांस व जर्मनी की इकॉनामी को भी पीछे छोड़ देगा।
अधिकारियों से लिए फीडबैंक
केन्द्रीय वित राज्यमंत्री ने सर्वप्रथम जीएसटी को क्षेत्र विशेष की विशिष्ट समस्याओं को लेकर एवं उनके व्यावहारिक निराकरण के सुझावों पर चर्चा की। उन्होंने जीएसटी कानून इंटरप्रिटेशन में आने वाली समस्याएं तथा कानून की क्रियान्विति में व्यावहारिक कठिनाइयों पर विस्तृत चर्चा करते हुए इन्हें दूर करने के सुझाव भी लिए।श्री मेघवाल ने कहा कि सरकार देश के ट्रेड एवं इंडस्ट्री क्षेत्र की समस्याओं को दूर करने के प्रति गंभीर है और देश के हर क्षेत्र से आने वाले उपयोगी सुझावों को जीएसटी काउंसिल के समक्ष रखा जाकर उनका उचित हल निकाला जाएगा। उन्होंने बताया कि पूर्व में फर्टीलाइजर, प्रिंटर, ई वे बिल जैसे मुद्दों में जीएसटी काउंसिल ने व्यावहारिक हल निकाल कर राहत प्रदान की है।
गुड्स एंड सर्विस टेक्स को बनाएंगे गुड एंड सिम्पल टेक्स
मेघवाल ने कहा कि गुड्स एंड सर्विस टेक्स अभी आरंभिक दौर में है। इसके क्रियान्वयन में ट्रेड व इंडस्ट्री के समक्ष जो समस्याएं आएगी, काउंसिल उनका निरंतर अध्ययन कर उन्हें सरलीकृत एवं व्यावहारिक तौर पर दूर करते हुए इसके मूल भाव ‘‘गुड व सिम्पल टेक्स’’ के रूप में परिणत किया जाएगा।

correspondent

DESERTTIMES

DESERTTIMES

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com