इश्क की पावन कहानी, बारिशों सी हो सुहानी…

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedin

रोहित कृष्ण नँदन

मंदिरों की आरती तुम
मस्जिदों की अजान हो
आज हम ये कह रहे हैं

तुम हमारी जान हो
भोर का सूरज तुम्ही से
रौशनी है माँगता
फूल उपवन का तुम्ही से
जिंदगी है जानता
धड़कनों की हर खुशी तुम
प्रीत का वरदान हो
आज हम ये…

इश्क की पावन कहानी
बारिशों सी हो सुहानी
जिसके पीछे चलता कान्हा
तुम वही राधा दिवानी
इन लबों की बन हँसी तुम
जिंदगी अभिमान हो
आज हम ये…

correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in