इश्क की पावन कहानी, बारिशों सी हो सुहानी…

रोहित कृष्ण नँदन

मंदिरों की आरती तुम
मस्जिदों की अजान हो
आज हम ये कह रहे हैं

तुम हमारी जान हो
भोर का सूरज तुम्ही से
रौशनी है माँगता
फूल उपवन का तुम्ही से
जिंदगी है जानता
धड़कनों की हर खुशी तुम
प्रीत का वरदान हो
आज हम ये…

इश्क की पावन कहानी
बारिशों सी हो सुहानी
जिसके पीछे चलता कान्हा
तुम वही राधा दिवानी
इन लबों की बन हँसी तुम
जिंदगी अभिमान हो
आज हम ये…


correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in

%d bloggers like this: