…अब ये लो नया जुमला ‘‘मिनिस्टर ऑन व्हील’’

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedin

अजमेर। सूबे की सरकार की योजनाएं और वर्किंग सिस्टम अब जुमले लगने लगे है। कभी काबिल आईएएस अफसरों को कर्मचारियों की हाजरी-गैर हाजरी जांचने के काम दे रही है तो कभी अपने मंत्रियों को घुमन्तु बनने का काम। सरकार ने अब इसे नाम दिया है ‘‘मिनिस्टर ऑन व्हील’’। यानी मंत्री जी गाड़ियों में दौरे करेंगे और देखेंगे कि सरकारी मातहत अपने काम को सही से अंजाम दे रहै या नहीं‌? इसके चलते राज्य के शिक्षा राज्यमंत्री देवनानी अचानक कुछ स्कूलों में जा पहुंचे। रौब दिखया, नाराजगी जाहिर की और सुधार की बात भी कह डाली। ये सब उन्होंने ‘‘मिनिस्टर ऑन व्हील’’ कार्यक्रम के तहत किया। सवाल यह है कि इस नये कार्यक्रम से पहले जब भी मंत्रीजी दौरे पर गए तो क्या :व्हील” पर नहीं गए‌? तो इस बार एक नये नाम का कार्यक्रम क्यों बनाया? वे दौरे पहले भी करते रहे है, उसके तहत ही ये सब परख लेते। खैर, वे बीर और बलवंता के सरकारी स्कूलों पहुंचे। लापरवाह कर्मचारियों के खिलाफ कार्यवाही की बात कही।
पहले ही दौरे में
मंत्री जी को स्कूलों में कई खामियां एवं लापरवाही पकड़ में आ गई। सख्त रवैया अपनाते हुए खामियों को सुधारने एवं लापरवाह कर्मचारियों व शिक्षकों के खिलाफ कार्यवाही के निर्देश भी मौके पर दे डालें। साथ ही वहां नामांकन, शिक्षकों की उपस्थिति, विद्यार्थियों का शैक्षणिक स्तर, सफाई, निर्माण कार्यों की गुणवत्ता, विद्यार्थियों की नई यूनिफार्म, प्रांगण में आइना, पेयजल, टंकी की सफाई आदि बिन्दुओं पर निरीक्षण कर डाला।
बेचरा लिपिक
मंत्री जी ऑन व्हील है, ये बात अदना सा लिपीक नहीं जानता था। वो बिना सूचना के अनुपस्थित था। बस मंत्री जी ने तुरंत कार्यवाही के निर्देश दे दिए। मिड डे मील के तहत पकाए गए पोषाहार की गुणवत्ता भी सुधारने को कहा। स्कूल के स्टाफ ने अपने वाहन निर्धारित स्टैण्ड के बजाए बरामदे में खड़े कर रखे थे। उन्होंने नाराजगी जताते हुए कहा कि हम खुद नियम नहीं मान रहे तो विद्यार्थियों को क्या सीख देंगे। स्कूल में पेयजल टंकी में लम्बे समय से सफाई नहीं होने को गम्भीरता से लेते हुए उन्होंने संबंधित कर्मचारियों को फटकार लगायी। यहां शौचालय पर ताला लगा होने से नाराज देवनानी ने शाला प्रभारी को तुरन्त इसे खुलवाने के निर्देश दिए।
घूघरी से मिड डे मिल तक

अब मंत्री जी को कौन समझाएं कि ये घूघरी से शुरू हुआ सफर मिड डे मिल तक आते-आते कई शिक्षकों- शिक्षा अधिकारियों की नाक में दम कर छोड़ा है। सरकारें आई-गई हो गई लेकिन इसकी गुणवत्त पर कोई असर नहीं हुआ। जस की तस है। शौचालय का ताला तो मंत्रीजी ने मौके पर खुलवा दिया लेकिन जब इस्तेमाल होगा तो इसकी नियमित सफाई के लिए स्कूल के पास बजट भी नहीं है। ऐसे में शौखलय का हाल वैसा ही होगा जैसा अमूमन हर जगह होता है। आपको इनके हाल देखने हो तो सरकारी बस डिपो, रेलवे स्टेशन और सुलभ कॉपलेक्स देख लें।
यहां भी यही हाल
शिक्षा राज्यमंत्री इसके पश्चात राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय बलवंता पहुंचे। यहां भी निरीक्षण में एक लिपिक बिना बताए गैर हाजिर मिला। स्कूल में बालक एवं बालिका शौचालयों में पर्याप्त सफाई नहीं पायी गई। पहले जहां गए वहां ताला मिला शौचालय पर, यहां ताला खुला था लेकिन सफाई नहीं। हमने तो इसका अंदेशा पहले ही जता दिया। अब यहां साबित भी हो गया। नामांकन की स्थिति भी अत्यंत कमजोर मिली। शाला स्टाफ इससे संबंधित संतोषजनक जवाब भी नहीं दे सका।
आईना मुझसे…
ऑन व्हील कार्यक्रम के तहत आईना सब बयां कर रहा था। सच दिखाए जा रहा था और मंत्री जी देखे जा रहे थे। उन्होंने शाला में सार्वजनिक स्थान पर लगाया जाने वाला आइना ढुंढवाया तो वह प्राचार्य के कक्ष में मिला। शाला नए भवन के बजाय पुराने कक्षा कक्षों में चल रही थी। इस पर देवनानी ने कहा कि फिर नए कक्ष बनवाने का क्या औचित्य है? यहां और भी कई कमियां पायी गई। विभाग के अधिकारियों को मौके पर ही बुलवाकर नाराजगी जतायी। उन्होंने कहा कि उप निदेशक से ब्लॉक तक के सभी जिम्मेदार अधिकारी यह सुनिश्चित करेंगे कि उनके क्षेत्र के किसी भी स्कूल में खामियां नहीं रहे। यह जिम्मेदारी अधिकारी की भी है कि वह लगातार निरीक्षण कर अपने स्कूलों में सुधार करें। दोनों स्कूलों में खामियों पर संबंधित शाला प्रधान को नोटिस देकर जवाब मांगा जाएगा। उन्होंने कहा कि अधिकारी लगातार निरीक्षण करें। लापरवाह शाला प्रधान, शिक्षक, लिपिक व अन्य कर्मचारियों के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी।
जारी रहेगा घुमना
लगातार जारी रहेगा ‘‘मिनिस्टर आॅन व्हील’’ कार्यक्रम। शिक्षा राज्यमंत्री देवनानी ने बताया कि राज्य के सरकारी स्कूलों में शिक्षा में गुणात्मक सुधार, विद्यार्थियों को सुविधाओं की उपलब्धता एवं भौतिक संसाधनों का बेहतर रखरखाव सुनिश्चित करने के लिए मिनिस्टर आॅन व्हील कार्यक्रम लगातार जारी रहेगा। इसके साथ ही अधिकारी भी लगातार दौरा कर विभिन्न व्यवस्थाओं को सुनिश्चित करेंगे।

correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in