महिलाओं को आग जलाकर दिलाई बाल विवाह नहीं करने की शपथ

एक होकर बाल विवाह के खिलाफ लड़ने का दिलाया संकल्प
श्रीगंगानगर। राजस्थान राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग अध्यक्ष मनन चतुर्वेदी पर्यावरण सुधार समिति के तत्वाधान में चूरू जिले में बाल विवाह मुक्त गांव बूटिया की घोषणा कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुई ।कार्यक्रम की अध्यक्षता जिला कलेक्टर चूरू ललित गुप्ता , विशिष्ठ अतिथि पुलिस अधीक्षक राहुल बारहट , विधिक सेवा प्राधिकरण के पूर्णकालिक सचिव राजेश और अन्य गणमान्य वरिष्ठ नागरिक ओर काफी संख्या में उपस्थित ग्रामवासी मौजूद रहे। चतुर्वेदी ने कार्यक्रम को दीप प्रज्जवलित कर शुभारम्भ किया गया। विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव राजेश दहिया ने जिले में ओर राज्य में बाल विवाह के विरुद्ध सरकार द्वारा बनाये गए नियमों ओर प्रावधानों की समस्त ग्रामवासियो को जानकारी दी । पुलिस अधीक्षक राहुल बारहट ने आयोजन कर्ताओं का धन्यवाद करते हुए कहा कि भारत मे 200 साल पहले पहली बार बाल विवाह के खिलाफ राजाराम मोहनराय द्वारा आंदोलन ओर जनजागृति अभियान की शुरुआत की गई थी,जिससे आज भी पूरी तरह से निजात नहीं मिल पायी।आयोग अध्यक्ष मनन चतुर्वेदी ने कहा कि किसी भी विवाह और शुभ कार्य मे घर की महिलाओं की ही सबसे ज्यादा भागीदारी होती है ।सबसे पहले गांव की महिलाओं को एक संगठन बनाकर इस मुहिम को सदैव जागृत ओर निर्विघ्न रूप से चलाना चाहिये। महिला ही अपने बच्चों ओर पूरे परिवार को अपनी जिम्मेवारी से संभालती है । किसी भी सामाजिक क्रांति या नवाचार में जबतक महिला संगठन आगे नहीं आता कोई भी सामाजिक बदलाव सफल नहीं हो सकता । चूरू जिले का यह गांव पूरे राजस्थान के सामने मॉडल गांव के रूप में स्थापित होगा । इसकी इस गतिविधि ओर जनजागृति की लहर आसपास ही नहीं वरन पूरे देश मे फैलेगी ।इसके लिए राजस्थान राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग सदैव गांव की इस टीम के साथ रहेगा और हर कदम पर सहयोग प्रदान करेगा।


correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in

%d bloggers like this: