नौनिहालों की करिश्माई कहानी सुना रहा है यह गांव

बचपन ने दिखाया पचपन से बड़ा कमाल
राजसमन्द। जिले के नौनिहालों ने स्वस्थ भारत के तहत रेलमगरा पंचायत समिति की सकरावास ग्राम पंचायत अन्तर्गत मोर्रा गांव के बच्चों ने स्वच्छता को लेकर ऎसा नायाब काम कर दिखाया है जिसे देखकर लगता है कि किसी भी सामाजिक परिवर्तन और जनचेतना क्रान्ति के लिए धन और आयु कोई मायने नहीं रखती यदि समाज और क्षेत्र के लिए जीने और कुछ कर दिखाने का ज़ज़्बा हो। इस गांव के बच्चों ने बिना किसी वित्तीय प्रावधान के स्वच्छता के क्षेत्र में अनुकरणीय इतिहास कायम कर दिया है। लगभग डेढ़ सौ घरों की बस्ती वाले मोर्रा गांव में 100 से अधिक घरों के बाहर आज कचरा पात्र रखे हुए हैं जिनके उपयोग से गांव में स्वच्छता का परिवेश दिखाई दे रहा है।रेलमगरा क्षेत्र में सामाजिक बदलाव के विभिन्न क्षेत्रों में रचनात्मक गतिविधियों को मूर्त रूप दे रही संस्था ‘जतन’ की कार्यकर्ता सुमित्रा मेनारिया भी इस गांव में स्वच्छता की अलख जगा रही हैं।


correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in

%d bloggers like this: