वैज्ञानिक व आध्यात्मिक तथ्यों को बढाना होगा: देवनानी

जयपुर। शिक्षा राज्य मंत्री प्रो. वासुदेव देवनानी ने कहा कि सरकार एवं समाज को मिलकर वैज्ञानिक व आध्यात्मिक तथ्यों को बढाना होगा। शिक्षा को सूचनात्मकता के साथ भावनात्मकता व आध्यात्मिकता से जोड़ेगें तो नई पीढी को सही व संस्कारित रूप में खड़ा कर सकेंगे। शिक्षा राज्य मंत्री शनिवार को जोधपुर के कल्पतरू छविगृह में आयोजित गौ विज्ञान अनुसंधान एवं सामान्य ज्ञान परीक्षा के राज्य स्तरीय पुरस्कार वितरण समारोह में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि हमारा देश प्राचीनतम है और महान देश ने विश्व गुरू का स्थान बना लिया है। हमारी सभ्यता एवं संस्कृति भी उतनी ही महान है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने योग को आज जन-जन तक पहुंचाने का योगदान किया है। राज्य में भी 70 हजार स्कूलों में योग ध्यान व सूर्य नमस्कार किया जा रहा है। पाठ्यक्रमों में भी महाराणा प्रताप को शामिल किया गया। भारतीय संस्कृति गर्व की अनुभूति करवाती है और हमारी सात्विक प्रवृति देश को वैभव को आगे ले जाती है। उन्होंने गोपालन को भारतीय संस्कृति का प्रमुख अंग बताते हुए कहा कि गाय का हमारे जीवन में बहुत महत्व व उपयोगिता है। वह अपने आप में एक कार्यशाला है जो मनुष्य को तन्दरुस्त रखने में हर मायने में उपयोगी सिद्ध है। गौ विज्ञान एवं अनुसंधान ने भी साबित कर दिया है कि आर्थिक रूप से भी वह स्वावलम्बी है। उन्होंने कहा कि गौ विज्ञान अनुसंधान परीक्षा तक ही सीमित नहीं रखा जाए जो प्रश्न पूछे गए है और उनका जवाब दिया गया है। उनको अपने जीवन में आत्मसात करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि भारत विश्व गुरू है और रहेगा।


Desert Time

correspondent

Hemant Bhati

Hemant Bhati

%d bloggers like this: