सात फेरों के बाद अनशन पर दूल्हा, दुल्हन पहुंची पीहर

इस अनूठी शादी के गवाह बने भूखे-प्यासे लोग, चौबीस घंटे बाद अनशन पर बैठेगी नवविवाहिता
जयपुर । विशेष पिछड़ा वर्ग के आरक्षण के आधार पर सरकारी नौकरी के लिए चयनित हो चुके अभ्यर्थियों को ज्वाइनिंग देने की मांग को लेकर आठ दिन से भरतपुर जिले के सिकंदार कस्बे के गुर्जर शहीद स्थल पर चल रहे आमरण अनशन पर गुरुवार को अनोखा इतिहास बन गया। यहां अनशन बैठे एक अनशनकारी ने गुर्जर समाज के प्रबुद्धजनों की मौजूदगी में सात फेरे लिये। देवराज चाड नामक युवक ने हिंदू रीति रिवाज से गांव गुड्डा आशिकपुरा निवासी ममता गुर्जर के साथ विवाह की रस्में पूरी की। इस अनूठे विवाह समारोह के गवाह सैकड़ों लोग बने। खास बात ये रही कि दूल्हे के हल्दी की रस्म गिरधरपुरा गांव की महिलाओं ने पूरी की। इसके लिए शहीद स्मारक पर स्टेज व मंडप तैयार किया गया। दुल्हन को शहीद स्मारक पर लाया गया। इसके बाद प्रशासनिक अधिकारियों की मौजूदगी में देवराज व ममता का विवाह संपन्न हुआ। इस अनूठी शादी के गवाह बने सैकड़ों गुर्जर समाज के लोगों ने तो मिठाई व छोले पुरी का आनंद लिया बल्कि अनशनकारी दूल्हे सहित आठों युवकों ने इसका स्वाद तक नहीं चखा। सात फेरे लेने बाद दूल्हा देवराज निवासी झुंपड़ी बसड़ा तहसील बसवा ने अपना अनशन जारी रखा वहीं दुल्हन ममता अपने माता-पिता केसाथ पीहर लौट गई।
दुल्हन आज अकेले ही जाएगी ससुराल
अनशन स्थल पर हुई शादी के बाद शुक्रवार को एक और अनोखा नमूना पेश होगा। ऐसा पहली बार होगा जब अकेले दुल्हन अपने ससुराल जाएगी। नवविवाहिता ने सरकार को चेताया है कि वह अपने ससुराल में पति के साथ सामाजिक रस्मों का निवर्हन किए बगैर ही अगले चौबीस घंटों में ही अनशन स्थल पर पहुंचेगी। पंडित कैलाश शर्मा ने
फेरों की रस्म अदा करवायी तो वहीं इस विवाह समारोह में वर पक्ष से केवल दूल्हे के पिता रामजीलाल व मां चंदोदेवी तथा दुल्हन के पिता विश्राम बंैसला व मां
बाली देवी इसके साक्षी बने।
लगन टीका भी अनशन स्थल पर हुआ
पिछले आठ दिन से आमरण अनशन पर बैठे देवराज ने धूमधाम से विवाह की रस्में पूरी करने की बजाय बेहद शालीनता से शादी की। उन्होंने हाथ पर ड्रिप लगी हुई हालत में गत 21 फरवरी को अनशन स्थल पर ही लगन टीका की रस्म निभाई। इस दिन भी देवराज सहित अन्य अनशनकारियों ने मिठाई का स्वाद भी नहीं चखा।
कल गुर्जर समाज करेगा बड़ा ऐलान
अनशन स्थल पर विवाह कार्यक्रम में शरीक हुए गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के प्रदेश प्रवक्ता हिम्मत सिंह ने बताया कि 25 फरवरी को समाज की महापंचायत में सरकार के खिलाफ बड़े आंदोलन का ऐलान किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार गुर्जरों के साथ अन्याय कर रही है यह अन्याय कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। गुर्जर समाज दोबारा इतिहास दोहराएगा इसकी जिम्मेदार राजस्थान सरकार होगी। विवाह कार्यक्रम स्थल पर एबुंलेंस मौजूद रही जिसमें डॉ. आशीष खंडेलवाल, डॉ. बलवंत सिंह गुर्जर, पायलट भवानी सिंह गुर्जर, राजू जोशी, सीओ पीसी विश्नोई, थाना प्रभारी रामेश्वर लाल बगडिय़ा, अजीत सिंह, लखन सिंह, हरिराम, गुर्जर समाज के रामचंद्र खुटला, धारासिंह बासड़ा आदि उपस्थित रहे।


Desert Time

correspondent

Sanjay Sethi

Sanjay Sethi

%d bloggers like this: