तीर्थ यात्रियों के लिए एक ही जगह पर सभी धार्मिक स्थल बनाने का प्रोजेक्ट होगा तैयार

जयपुर। विश्व प्रसिद्ध जयपुर की मार्बल एवं ग्रेनाइट की मूर्तियां सिक्किम के धार्मिक पर्यटन का आधार बन गई है। सिक्किम सरकार ने राज्य में धार्मिक पयर्टन को बढ़ावा देने के लिए उतराखंड की तर्ज पर चार धाम की स्थापना की है। जहां हिन्दू धर्म के प्रमुख तीर्थ स्थलों के 18 मंदिर बनाए गए हैं। ताकि तीर्थ यात्री एक ही जगह पर सभी धार्मिक स्थलों के दर्शन कर सकें। सिक्किम के नामची में बनाए गए चार धाम में जयपुर से बन कर गई मार्बल एवं ग्रेनाइट की मूर्तियां पर्यटकों का आकर्षण का केंद्र है। तीन साल में सिक्किम के चार धाम आने वाले पर्यटकों की संख्या लाखों में पहुंच गई है। हर साल लाखों देशी-विदेश टूरिस्ट आ रहे हैं। यहां आने वाले पर्यटक मंदिरों के आर्किटेक्चर के साथ-साथ मंदिर में स्थापित मूर्तियों की तरफ आकर्षिक होते हैं। धार्मिक यात्रा के लिए उतराखंड प्रसिद्ध है, जहां हर साल लाखों तीर्थ यात्री जाते हैं। जबकि सिक्किम में हिन्दुओं का कोई बडा तीर्थ स्थान नहीं था। सिक्किम के मुख्यमंत्री पवन चामलिंग ने करीब 12 साल पहले सिक्किम को रुरल विलेज, इको फ्रेंडली एंड रिलिजियस टूरिज्म स्टेट के रूप में विकसित करने का निर्णय लिया। उन्होंने सोलोफोक चारधाम की प्लानिंग शुरू की। इस प्लानिंग में हिन्दू आस्था को ध्यान में रखते हुए इस प्रोजेक्ट तैयार किया, जिसे देखने के लिए लोग आकर्षिक हो। देश में अलग-अगल राज्यों में दुर्गम स्थानों पर धार्मिक स्थल है। हर व्यक्ति के लिए सभी धार्मिक स्थलों की यात्रा लम्बी, खर्चीली और दुर्गम है। इसलिए हिन्दू तीर्थ यात्रियों के लिए एक ही जगह पर सभी धार्मिक स्थल बनाने का प्रोजेक्ट तैयार किया गया।


Desert Time

correspondent

Hemant Bhati

Hemant Bhati

%d bloggers like this: