बच्चों को अगवा करने का आदी है सोनू

पहले टिब्बी क्षेत्र से भाई-बहन का किया था अपहरण, महाराष्ट्र में पकड़ा गया था
श्रीगंगानगर। सादुलशहर थाना क्षेत्र के गांव अमरगढ़ में मेहमान बनकर आया सोनू उर्फ सुखदेव उर्फ दलीप मेघवाल बच्चों को अपहरण करने का आदतन अपराधी है। इससे पहले वह वर्ष 2013 में हनुमानगढ़ जिले के टिब्बी थाना क्षेत्र से नाबालिग भाई-बहन को अगवा कर ले गया था। वह इन दोनों को मोटरसाइकिल पर ही महाराष्ट्र ले गया था। वहां से पुलिस उसे पकड़कर लेकर आई थी। अब इस सोनू उर्फ सुखदेव उर्फ दलीप की सादुलशहर पुलिस को गांव अमरगढ़ निवासी हरमलसिंह की 12 वर्षीय पुत्री जसमीत कौर का अपहरण कर लेने के मामले में तलाश है। उसे पकडऩे के लिए चार पुलिस टीमों का गठन किया गया है। इस मामले की जांच कर रहे सब इंस्पेक्टर सुरेश ने बताया कि कल गुरुवार को जब यह मामला सामने आया, तब तक अमरगढ़ में किसी को नहीं पता था कि यह युवक वास्तव में है कौन। तब तक कहा जा रहा था कि सोनू नामक यह युवक पटियाला का रहने वाला है, लेकिन अब पता चला है कि सोनू उर्फ दलीप पंजाब के समीपवर्ती अबोहर उपखण्ड क्षेत्र में बहाववाला थाना क्षेत्र के गांव भागसर का निवासी है। सोनू उर्फ सुखदेव उर्फ दलीप पुत्र भागराम मेघवाल ने अमृत छका हुआ है। वह अमृतधारी सिख बनकर घूमता रहता है। उस पर टिब्बी थाना में अपहरण के अलावा धारा 406 का भी एक मामला दर्ज है। इन्हीं मामलों में गिरफ्तारी के दौरान हनुमानगढ़ सेंट्रल जेल में रहते समय उसकी जान-पहचान हत्या के प्रयास के आरोप में गिरफ्तार किशनपुरा के राजेश से हो गई थी। सोनू की बाद में जमानत हुई, तो वह किशनपुरा मेें राजेश के यहां आने-जाने लगा। राजेश के जरिये उसकी दोस्ती इसी गांव में अगरबत्ती-धूप का काम करने वाले बलवंत सिंह उर्फ बंता से हो गई। सोनू तीन दिन पहले किशनपुरा में बंता के पास आया, तो यह दोनों अमरगढ़ आ गये। अमरगढ़ में बंता अपने परिचित गुलाबसिंह के घर सोनू को ले आया। देानों रात को उसी के यहां रुके। अगले दिन बुधवार को बंता वापिस चला गया , लेकिन सोनू गुलाबसिंह के यहां ही रुका रहा। अगली रात उसके यहां बिताने के बाद गुरुवार को सोनू गुलाबसिंह के भाई हरमल सिंह की पुत्री जसमीत कौर (12) और उसके भाई गुरविन्द्र (14) को खरीददारी करवाने के बहाने से सादुलशहर ले आया। दोनों को कस्बे में इधर-उधर घुमाता रहा। फिर गुरविन्द्र को बस अड्डे के पास छोड़कर जसमीत कौर सहित गायब हो गया। पहले तो पुलिस ने इस मामले को हल्के में लिया, जब सोनू की असलीयत सामने आई, तो अब वह पूरी भागदौडृ़ कर रही है। एसआई सुरेश ने बताया कि सोनू ने टिब्बी से जिस भाई-बहन को अगवा किया था, उसने महाराष्ट्र अपने साथ ले जाने तक रास्ते में कहीं उन्हें कोई नुकसान नहीं पहुंचाया था। इस बार वह अकेली बालिका को लेकर गायब हुआ है। इसलिए यह मामला कुछ ज्यादा संगीन है। उन्होंने बताया कि सोनू को गिरफ्तार करने और बालिका को सकुशल दसत्याब करने के लिए चार पुलिस टीमों का गठन किया गया है। दो टीमें पंजाब में भेजी गई हैं। एक टीम हरियाणा मेें काम कर रही है। चौथी टीम को हनुमानगढ़ जिले के रावतसर इलाके में भेजा गया है, जहां सोनू की बहन गुड्डी विवाहित है। पुलिस सोनू के मोबाइल फोन के नम्बर हासिल करने के लिए प्रयासरत है, ताकि उसकी लोकेशन को ट्रेस किया जा सके। उधर, जसमीत कौर के परिवार वाले और गांव वाले बेहद चिन्तित हैं। सोनू इस गांव में पहली बार ही आया था और यह कारनामा कर फरार हो गया। पुलिस बंता और राजेश से पूछताछ कर सोनू के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारियां जुटा रही हैं।


correspondent

Sanjay Sethi

Sanjay Sethi

%d bloggers like this: