सूर्य की पहली किरण से आरंभ हुआ वर्ल्ड सेक्रेड स्पिरिट फेस्टिवल

जोधपुर। मेहरानगढ़ म्यूजियम ट्रस्ट की ओर से तीन दिवसीय वर्ल्ड सेक्रेड स्पिरिट फेस्टिवल शुक्रवार से शुरू हो गया। जोधपुर का विश्वविख्यात मेहरानगढ़ फेस्टिवल आयोजन का साक्षी बना। वासंती बयार के बीच जसवंत थड़ा परिसर में सूर्य की पहली किरण से आरंभ हुए आध्यात्मिक संगीत के सूफियाना सफर में देशी विदेशी सैलानी शामिल हुए। जसवंत थड़ा पर नवाब खान के संतूर वादन की स्वर लहरियों के बीच सूफी गायक सिकन्दर ने एक से बढक़र एक सूफियाना कलामों की प्रस्तुतियों से मंत्रमुग्ध किया। सारंगी वादक अयान खान, तबले पर नावेद और ढोलक पर सलमान के साथ नवाब खान के संतूर वादन ने समूचे माहौल में अध्यात्म की खुशबू बिखेरी। नवाब खान ने क्लासिकल राग, ख्याल, तराने, अलग अलग धर्मों के मंत्र, भजन, कुरान की आयतें एक ही राग को एक गीत में पीरों कर इंसानियत का संदेश दिया। मेहरानगढ़ म्यूजियम ट्रस्ट के निदेशक करणीसिंह जसोल ने बताया कि मेहरानगढ़ म्यूजियम ट्रस्ट जोधपुर की ओर से आयोज्य तीन दिवसीय वर्ल्ड सेक्रेड स्पिरिट फेस्टिवल में भारत, ईरान, फ्रांस, मोरक्को, फलीस्तीन, चीन, इजिप्ट, मंगोलिया आदि देशों करीब 120 देशी-विदेशी कलाकार पहली बार सूफी सुरों व सूफी नृत्य के माध्यम से अध्यात्म की खुशबू बिखरेंगे। फेस्टिवल के कला निदेशक फ्रांस के एलेन वेबर ने बताया कि यह फेस्टिवल नागौर के अहिछत्रगढ़ दुर्ग को यूनेस्को वल्र्ड हैरिटेज अवार्ड मिलने की खुशी में जश्न के तौर पर प्रारम्भ हुआ था


correspondent

Akhil Vyas

Akhil Vyas

%d bloggers like this: