27 विद्यार्थी अब तक आत्महत्या कर चुके हैं, इसकी जांच भी नहीं हुई: गहलोत

सरकार पर विद्यार्थी मित्रों को गुमराह करने का आरोप
जयपुर। पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ग्राम पंचायत सहायकों की भर्ती के नाम पर हजारों विद्यार्थी मित्रों को गुमराह करने का राज्य सरकार पर आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि सरकार बिना आवश्यक मानदण्ड अपनाये जिस प्रकार ग्राम पंचायत सहायकों की भर्ती करने जा रही है, वह फिर विवादों में उलझ सकती है। उन्होंने कहा है कि जिस प्रकार विद्यार्थी मित्र संगठनों ने आरोप लगाये हैं कि 27 विद्यार्थी मित्र अब तक नियमित करने की अपनी मांग को लेकर आत्महत्या कर चुके हैं, सरकार इसकी जांच भी नहीं कर पाई, जो दुर्भाग्यपूर्ण है। गहलोत ने अपने एक बयान में कहा है कि विद्यार्थी मित्रों से काम तो ग्राम पंचायतों में लिया जायेगा, परन्तु भर्ती स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा की जा रही है। विद्यार्थी मित्रों को न तो सरकार द्वारा आयु में छूट दी गई है और न ही उन्हें प्राथमिकता का निर्धारण किया गया है। शहरी क्षेत्र के लिए भी उनके लिए स्पष्ट आदेश नहीं हैं। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार ने शिक्षा सहायक की भर्ती निकाली थी, लेकिन वर्तमान सरकार द्वारा उसे निरस्त कर विद्यालय सहायक की भर्ती करने का प्रयास किया गया, जो आज तक कानूनी प्रक्रिया में उलझा हुआ है। गहलोत ने आशा व्यक्त की है कि राज्य सरकार विद्यार्थी मित्रों की समस्याओं को समझते हुए सही रूप में उनको नियुक्तियां देकर सम्भावित अनावश्यक विवाद को टालने का प्रयास करेंगी।


Desert Time

correspondent

Hemant Bhati

Hemant Bhati

Breaking News
%d bloggers like this: