कुरजा में विराजमान हुई माता कुलदेवी

श्री मां संच्चियाय माता की हुई मंगलमय प्रतिष्ठा सम्पन, जयकारों से गूंजा कुर्जा धाम
बाड़मेर । अखिल भारतीय मालू जैन भाईपा समाज द्वारा नवनिर्मित मालू गौत्रीय कुलदेवी श्री मां संच्चियाय माता मन्दिर कुर्जा में भव्य प्राण- प्रतिष्ठा महोत्सव रविवार को मां संच्चियाय धाम कुर्जा में उपाध्याय प्रवर मनोज्ञसागर म.सा. की मांगलिक व पण्डित हितेश भाई शास्त्री के मंत्रोचार के साथ प्रातः शुभ मुहुर्त में पूजन,वास्तुप्रयाोग,माताजी का स्हस्त्रार्चन महापूजन,प्राण-प्रतिष्ठा,प्रतिष्ठा होम,उतरपूजन,पूर्णाहुति सहित कई यज्ञ व अनुष्ठानों एवं कार्यक्रमों का आयोजन हुआ । संच्चियाय माता मन्दिर के शिखर पर ध्वजारोहण एवं कलश की हुई स्थापना-प्रतिष्ठा महोत्सव समिति के सहसंयोजक दिलिप मालू ने बताया कि प्राण-प्रतिष्ठा महोत्सव के रविवार को प्रातः में मालू गौत्रीय कुलदेवी मा संच्चियाय की प्रतिष्ठा के बाद अभिजीत मुहुर्त 12.39 बजे में नवनिर्मिग्त मन्दिर पर ध्वजारोहण एवं कलश सहित कई प्रकार के धार्मिक अनुष्ठाान एवं कार्यक्रम आयोजित हुई। ध्वजारोहण मांगीलाल,जगदीशचन्द आसूलाल गोपचन्द मालू परिवार चौहटन ने साधु भगवन्तं व पण्डित हितेश भाई की पावन निश्रा में किया। वहीं कलश की स्थापना औकारचन्द आसूलाल मोहनलाल बंशीधर जवानमलोणी मालू परिवार व मां सच्चियाय की प्रतिमा विराजमान करने का लाभ शंकरलाल खंगारमल मालू परिवार चैहटन-सुरत ने लिया। वहीं शनिवार की रात्रि को विधि-विधान से पण्डित हितेश भाई शास्त्री ने पुनीत, प्रांजल निश्रा में प्राण-प्रतिष्ठा का विधान आयोजित हुआ। उपाध्याय प्रवर की प्रेरणा से बनेगा विहार धाम -श्री संच्चियाय माता मन्दिर कुर्जा में ऐतिहासिक चार दिवसीय प्राण-प्रतिष्ठा महोत्सव को कुशलता एवं शान्तिपूर्ण सम्पूर्ण करने एवं मुख्य प्रतिमा श्री संच्चियाय माता मन्दिर कुर्जा के निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान के लिए सभी मालू भाइयो को उपाध्याय प्रवर ने आशीर्वाद प्रदान किया व उपाध्याय प्रवर ने कहा कि मालू गौत्रीय कुलदेवी के मां संच्चियाय के मन्दिर के साथ परमात्मा का भी जिनालय बनाने की भावना प्रतिष्ठा संयोजक मांगीलाल मालू से की। उपाध्याय प्रवर की पावन प्रेरणा से बाडमेर-अहमदाबाद रोड पर हाथीतला व डुगेरा के तला के बीच साधु-साध्वी विहार धाम बनाने के लिए श्रीमति सुरज देवी भगवानदास मालू परिवार आरंग वालो की और से विहार धाम बनाने की घोषणा उपाध्याय प्रवर मनोज्ञसागर जी म.सा. द्वारा प्रतिष्ठा के दौरान की गई।


correspondent

barmer

barmer

%d bloggers like this: