27 हजार बच्चों को लैपटॉप, तीन लाख बालिकाओं को मिलेगी साइकिल

अजमेर। शिक्षा राज्य मंत्री प्रो. वासुदेव देवनानी ने कहा कि पिछले तीन सालों में राजस्थान ने शिक्षा के क्षेत्रा में ऊंची छलांग लगाई है। राजस्थान के 27 हजार प्रतिभावान विद्यार्थियों को लैपटॉप एवं तीन लाख बालिकाओं को साइकिल का वितरण शीघ्र किया जाएगा। विद्यार्थियों में पढ़ाई के प्रति गंभीरता लाने के लिए इसी सत्र में पांचवी बोर्ड की परीक्षा आयोजित की जाएगी। अजमेर शहर में भी 26 अरब रुपये से विकास कार्य करवाए जाएंगे। शिक्षा राज्य मंत्री प्रो. वासुदेव देवनानी ने आज तीन साल में अजमेर उत्तर विधानसभा क्षेत्र की उपलब्धियों पर प्रकाशित पुस्तिका तीन साल विकास के, बढ़ते विश्वास के जारी की। इस अवसर पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए प्रो. देवनानी ने कहा कि राजस्थान एक नई पहचान कायम कर रहा है। राजस्थान ने हर क्षेत्र में नई ऊंचाइयों को छुआ है। शिक्षा के क्षेत्र में अभूतपूर्व काम हुआ है। हमने शिक्षकों की लगभग सभी मांगों को पूरा कर दिया है। अब शिक्षा जगत एक नई उड़ान भर रहा है। पिछले तीन सालों में नामांकन बढ़ने के साथ ही अभिभावकों का सरकारी स्कूलों के प्रति विश्वास भी बढ़ा है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा 27 हजार प्रतिभावान बच्चों को लैपटॉप तथा नवीं कक्षा की तीन लाख बालिकाओं को साइकिल का वितरण शीघ्र कर दिया जाएगा। सभी ग्राम पंचायतों में पंचायत शिक्षा अधिकारियों की नियुक्ति की जा रही है। आगामी कुछ समय में हजारों शिक्षकों को नियुक्ति दी जाएगी। इससे विभाग के 89 प्रतिशत पद भर जाएंगे। बच्चों में शिक्षा के प्रति गंभीरता बढ़ाने के लिए पांचवी कक्षा में बोर्ड परीक्षा ली जाएगी। फेल होने वाले विद्यार्थियों को एक अवसर और मिलेगा। इस अवसर में भी कोई विद्यार्थी फेल होता है तो उसे पांचवी कक्षा में रहना होगा। राज्य में बालिका शिक्षा में सुधार की मिसाल गार्गी पुरस्कार से मिलती है। दो साल में गार्गी पुरस्कार लेने वाली बालिकाओं की संख्या 44 हजार से बढ़कर 91 हजार हो गई है। शिक्षा राज्य मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार शीघ्र ही शिक्षा विभाग के नियमों में भी बदलाव करने जा रही है । इन्हें शिक्षा नियम 2017 के नाम से जाना जाएगा। मिशन मैरिट के तहत 80 प्रतिशत से अधिक अंक वाले विद्यार्थियों के लिए विशेष कक्षाएं लगाई जा रही है। सरकारी स्कूलों में सुविधाएं उपलब्ध कराने में भामाशाह भी पीछे नही है। एक साल में भामाशाहों ने राज्य के सरकारी स्कूलों में 60 करोड़ रूपये का सहयोग दिया है।


correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in

%d bloggers like this: