खेतों में चारा जलाने पर लग सकती है रोक

जयपुर। प्रदेश में किसान अब फसल कटाई के बाद बचा चारा अपने खेतों में नहीं जला सकेंगे। केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय के निर्देशों के तहत राज्य सरकार ने यह फैसला लिया है। कृषि मंत्री प्रभुलाल सैनी ने सोमवार को बताया कि बचा हुआ चारा खेतों में जलाने से पर्यावरण को नुकसान होता है। केन्द्रीय पर्यावरण के निर्देशों के बाद चारे के जलाने पर रोक लगाने की सरकार ने पूरी तैयारी कर ली है। उन्होंने बताया कि इससे पर्यावरण प्रदूषण रुकेगा साथ ही पशुओं के लिए चारे का प्रबंध हो सकेगा। साथ ही कहा कि राजस्थान में फिलहाल 110 मंडियों के लिए ब्याज माफी योजना शुरू की गई है जो 31 मार्च 2017 तक रहेगी। इन मंडियों पर एक अरब रुपया बकया है। हाल ही प्रदेश में हुई ओलावृष्टि से किसानों को हुए नुकसान पर उन्होंने कहा कि 33 फीसदी तक फसल जिस किसान की खराब हुई है, उसे आपदा राहत राशि के तहत सहायता राशि प्रदान की जाएगी। वहीं जिस किसान को 33 फीसदी से ज्यादा नुकसान हुआ है उस किसान को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत सहायता राशि दिलाई जाए।


Desert Time

correspondent

Hemant Bhati

Hemant Bhati

%d bloggers like this: