व्याख्याताओं के एक हजार पद भरे जाएंगे- किरण

राजसमन्द । उच्च शिक्षा मंत्री किरण माहेश्वरी ने विद्यार्थियों से कहा है कि वे अपने भविष्य को संवारने के लिए महाविद्यालयी सेवाओं का पूरा-पूरा लाभ पाएं और आत्मनिर्भर जीवन की बुनियाद मजबूत करें। माहेश्वरी ने राजसमन्द जिले के नाथद्वारा में सेठ मथुरादास बिनानी राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय के पारितोषिक वितरण समारोह में विद्यार्थियों से यह आह्वान किया। समारोह में समाजसेवी श्री लक्ष्मणसिंह झाला, किशोर गुर्जर सहित क्षेत्र के जनप्रतिनिधि, अधिकारीगण, गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। उच्च शिक्षा मंत्री ने दीप प्रज्वलित कर समारोह का शुभारंभ किया तथा विभिन्न प्रवृत्तियों एवं प्रतिस्पर्धाओं में श्रेष्ठ छात्र-छात्राओं को पारितोषिक प्रदान किए। अपने उद्बोधन में उच्च शिक्षा मंत्री ने विद्यार्थियों से कहा कि वे उच्चतम स्तर तक पूर्ण शिक्षा प्राप्ति और कक्षाओं में उपस्थिति के प्रति गंभीर रहें और आत्मनिरीक्षण करते हुए आत्मानुशासन को अंगीकार करते हुए सुनहरा भविष्य और जीवन में आशातीत सफलताएं पाएं। इसके साथ ही अधिकारों के साथ-साथ खुद के कर्तव्य कर्मों के प्रति भी जागरुकता अपनाएं। उच्च शिक्षा मंत्री ने कॉलेजों में व्याख्याताओं की कमी दूर करने के लिए सरकार की ओर से किए जा रहे प्रयासों की जानकारी दी और बताया कि प्रदेश में व्याख्याताओं के एक हजार 250 पद भरने की प्रक्रिया जारी है और आगामी मई के अंत तक यह पूर्ण हो जाएगी। इसके बाद अगले शैक्षिक सत्र से व्याख्याताओं की कमी काफी हद तक दूर हो जाएगी। उन्होंने बताया कि विद्यार्थियों के व्यक्तित्व विकास व बेहतर जीवनयापन के अवसर मुहैया कराकर आत्मनिर्भरता प्रदान करने की दृष्टि से कॉलेजों में कौशल विकास के 15 से 20 स्वरोजगारपरक व्यवसायिक प्रशिक्षण पाठ्यक्रम संचालित किए जाएंगे। इसके साथ ही सरकारी महाविद्यालयों में प्लेसमेंट सुविधा का माहौल बनाने के हरसंभव प्रयासों को मूर्त रूप दिया जाएगा। इस बारे में व्यापक योजना बनाई जा रही है और देश भर के विशेषज्ञों से सलाह मशविरा किया जा रहा है। इसमें विद्यार्थियों से फार्म भराए जाएंगे और जरूरत के मुताबिक कॉलेजों में प्रशिक्षण कोर्स चलाए जाएंगे। इनमें कम्प्यूटर, अंग्रेजी स्पीकिंग आदि आधुनिक विधाओं का समावेश भी होगा।


correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in

%d bloggers like this: