प्रो. निवेदिता मेनन के खिलाफ दर्ज हो सकता है राजद्रोह का केस

जोधपुर। जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय के अंग्रेजी विभाग की कॉन्फ्रेंस में जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी की प्रो. निवेदिता मेनन द्वारा दिए गए विवादित भाषण के खिलाफ एबीवीपी से जुड़े छात्रों ने शुक्रवार को विवि बंद करवाकर प्रदर्शन किया। साथ ही कुलपति से प्रो. निवेदिता मेनन के खिलाफ राजद्रोह का मुकदमा दर्ज करवाने की मांग की। अपने विद्रोही अंदाज के लिए पहचाने जाने वाली जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी की पॉलिटिकल साइंस की प्रोफेसर निवेदिता मेनन ने गुरुवार को जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय के अंग्रेजी विभाग की कॉन्फ्रेंस में विवादित भाषण दिया था। साथ ही उन्होंने हिंदुत्व विरोधी बाते भी कही थी। इस भाषण पर कार्यक्रम में उपस्थित लोगों ने आपत्ति दर्ज करवाई थी। इस भाषण के खिलाफ एबीवीपी ने शुक्रवार सुबह विश्वविद्यालय में प्रदर्शन किया। उन्होंने न्यू कैंपस, ओल्ड कैंपस सहित हैड ऑफिस भी बंद करवा दिया। यहां कक्षाओं में उपस्थित विद्यार्थियों को बाहर निकालकर हड़ताल कर दी। कॉलेजों के प्रवेश द्वारों को बंद कर दिया। छात्रों ने प्रो. निवेदिता मेनन के खिलाफ नारेबाजी भी की। इसके साथ ही कुलपति से प्रो. निवेदिता मेनन के खिलाफ राजद्रोह का मुकदमा दर्ज करवाने की मांग की। प्रो. निवेदिता मेनन ने अपने भाषण में कहा था कि सेना के जवान देश सेवा के लिए नहीं, रोटी के लिए काम करते हैं। उन्हें सियाचीन में भेज कर क्यों मरवा रहे हैं? भारत माता की फोटो ये ही क्यों है? इसकी जगह दूसरी फोटो होनी चाहिए। भारत माता के हाथ में जो झंडा है, वह तिरंगा क्यों है? यह झंडा देश के आजाद होने के बाद का है, पहले ऐसा नहीं था।’ पहले इसमें चक्र नहीं था। मैं नहीं मानती इस भारत माता को। उन्होंने देश की सेना व्यवस्था, हिंदुत्व विरोधी कई बातें कही। इससे पूर्व जब प्रो. मेनन मंच पर आई थी तब उन्होंने खुद को ‘देशविरोधी’ बताते ही अपना परिचय दिया था।


correspondent

Akhil Vyas

Akhil Vyas

%d bloggers like this: