एलन ग्रुप के 40 ठिकानों पर छापे

कोटा। कोचिंग संस्थान एलेन ग्रुप पर गुरुवार को कोटा स्थित घर व कार्यालयों के 22 ठिकानों सहित राजस्थान के 27 शहरों में उनके कार्यालय व ठिकानों पर छापे मारे गए। देश के कुल 40 ठिकानों पर आयकर विभाग ने एक साथ छापा मारी शुरू की। कोटा में एलन संस्थान से जुडी विज्ञापन एजेंसी, बिल्डरों व सीए के कार्यालय पर भी आयकार विभाग ने दबिश देकर एलन से जुड़े दस्तावेजों की जांच की। देश में कालेधन पर की जा रही कार्रवाई के तहत एलन ग्रुप पर की गई सबसे बड़ी कार्रवाई है।
विशेष दल की छापेमारी
जयपुर से कोटा आई आयकर विभाग के विशेष दल ने कोटा आयकर अधिकारियों के साथ रेट की। सर्वप्रथम आयकर विभाग की टीम कोटा के इंद्राविहार स्थित एलेन निदेशक राजेश, गोविन्द, बृजेश और नविन माहेश्वरी के आवासों पर पहुंची। चारों भाईओं के घर पर जांच पड़ताल शुरू की गई। इसी तरह शहर में उनके विभिन्न कोचिंग सेंटर तलवंडी, इन्दाविहार, कुन्हाडी, राजीव गांधी नगर व जवाहर नगर में भी आयकर विभाग की टीम ने दबीश दी।
तलाशे रिकॉर्ड
दबिश के दौरान आयकर विभाग की टीम ने कोचिंग संस्थान के ऑफिस के रिर्काड तलाशे। आयकर विभाग के सूत्रों के अनुसार उन्हें फीस व होस्टलों से आने वाली आय में गड़बड़ी की सूचना मिली थी। फीस की रसीदों व हॉस्टल के जरूरी भी एलेन समूह द्वारा मोटी आय अर्जित की जा रही थी इसके आलावा कोटा शहर में निर्माणाधीन नए बिल्डिंगों के आलावा देश में भी नए भवन व परिसर बनाए जा रहे थे।
हर साल 300 प्रतिशत ग्रोथ
एलन ग्रुप का संचालन के द्वारा ट्रस्ट के माध्यम से कोचिंग संस्थान का संचालन किया जा रहा था और संचालक चारों भाइयों की वेतन में हर वर्ष 300 से 400 प्रतिशत की वृद्धि हो रही थी और ट्रस्ट के माध्यम से अन्य करों का छुपा लिया जाता था। आयकार विभाग की काफी समय से इस पर नजर बनी हुई थी। आयकर विभाग की विंग ने कोचिंग के ऑफिसों में अधिकारियों से वार्ता की ओर रिर्टन की फाइलों सहित उनके नए भवनों के निर्माण व उनके निवेशों की जानकारी प्राप्त की।
300 अधिकारी व कर्मचारी शामिल
आयकर विभाग के अधिकारी सुबह 7 बजे ही टीम के साथ एलन के विभिन्न ठिकानों पर पहुंच गए थे। इस बड़ी कार्रवाई में 300 आयकर विभाग के अधिकारी व कर्मचारी शामिल रहे | कोटा के अलावा जयपुर, उदयपुर, जोधपुर, भीलवाड़ा, सीकर सहित देश मे इंदौर पटना, रांची, पूना, लखनऊ में 40 ठिकानों पर की गई कार्रवाई में नकद, आभूषण व कई जमीनों के खरीद-फरोख्त के दस्तावेज मिले। आयकर विभाग के निदेशक विरेन्द्र व रघुवीर ने निर्देशन में कार्रवाई की गई। आयकर विभाग के द्वारा देर रात तक देस्तावेजों जांच पड़ताल का काम जारी था।


correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in

Breaking News
%d bloggers like this: