जोधपुर का लबाबदार दाल का चिलड़ा

Photo: Preeti Bissa

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedin

आज का पकवान जोधपुर की प्रिती बिस्सा की रसोई से खास
preeti-bissa

जोधपुर।

सर्दियों के इस मौसम में पकोड़ों का विशेष आनंद है। मल मास चल रहा है और हमारे मारवाड़ में इस मास में तेल जलाने यानि कि पकोड़े या उसके समकक्ष अन्य पकवान बनाने और खाने का विशेष महत्त्व है। यहाँ मारवाड़ में कहा जाता है कि मल मास में घर में कढ़ाई में तेज गर्म तेल में पकोड़े खाने से देवता प्रसन्न होते हैं। देखिये मारवाड़ कि यही विशिष्ट पहचान भी है कि हर पकवान को विशेष समय के साथ जोड़कर उसका अलग महत्त्व प्रदान या गया है। चलिए आज आनद लेते हैं जोधपुर के प्रसिद्ध मूंग दाल के चीलड़े। देश के अधिकांश हिस्सों में इसे दाल का चीला कहा जाता है।

इसे बनाना भी आसान है
मूंग दाल का चीला बनाने के लिये सबसे पहले पानी में भींगी हुई धूली मूंग दाल को मिक्सी के एक जार में डालकर थोड़े पानी की सहायता से बारीक पीस लें। अब पीसी हुई मूंग दाल के पेस्ट को एक बड़े बाउल में निकाल लें और अब इसमें कटी हुई हरी मिर्च, कद्दूकस की हुई अदरक, लाल मिर्च पाउडर, धनियाँ पाउडर, नमक, हींग और थोड़ा पानी डालकर चीले के घोल को पकोड़े जितना पतला कर लें। अब चीला बनाने के लिये घोल बनकर तैयार हो गया है। चीले बनाने के लिए एक नॉन स्टिक तवे को गैस पर गरम करने के लिय रखें और तवे को थोड़ा तेल लगाकर चिकना कर लें। जब तवा अच्छी तरह से गरम हो जाये तब गैस को मीडियम कर दें और अब गरम तवे पर करीब 2 बड़े चमचे घोल को भर कर तवे पर डालकर चमचे की सहायता गोल गोल चीला फैला दें। अब 1 चम्मच तेल को चीले के चारों तरफ डाल दें, इसके बाद चीले की ऊपर वाली सतह का रंग कुछ डार्क लगने लगेगा तब कलछी से चीले को पलटकर दूसरी तरफ भी थोडा तेल डालकर ब्राउन कलर की चित्ती आने तक सिंकने दें। अब सिंके हुए मूंग दाल के चीले को किचन पेपर पर निकाल लें। इसी प्रकार बाकी बचे हुए घोल से भी सभी चीले बनाकर तैयार कर लें। स्वादिष्ट और पौष्टिक मूंग दाल के चीले (Moong Dal cheela) बनकर तैयार हो गये है। गरमा गर्म मूंग दाल के चीले को खट्टी और मीठी चटनी और रायता के साथ सर्व करें।

correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in