2 जुलाई से अमरनाथ यात्रा शुरू

श्री अमरनाथजी की पवित्र गुफा की यात्रा के दौरान 14000 फुट तक की ऊंचाई तक चढ़ाई करनी पड़ती है। यात्री ऊंचाई के कारण बीमार पड़ सकते हैं। ऐसे में कई ऐसी बातें हैं जिनका ध्यान आपको यात्रा के वक्त जरूर रखना होगा। अमरनाथजी श्राइन बोर्ड ने यात्रियों के लिए निम्नलिखित स्वास्थ्य परामर्श जारी किया है। ऊंचाई पर होने वाली परेशानियों के लक्षण निम्नलिखित हैं भूख न लगना, मतली, उल्टी, थकावट, कमजोरी, चक्कर आना और सोने में कठिनाई, देखने में बाधा, मूत्राश्य का ठीक से कार्य न करना, आंतों का ठीक से काम न करना, गतिविधियों में तालमेल न रहना, शरीर के एक हिस्से में लकवा, चेतना का लोप हो जाना और मानसिक स्थिति में बदलाव होना। इसके अलावा सुस्ती, सीने में जकड़न, कंजेशन, तेजी से सांस लेना और हृदय की धड़कन बढ़ना। यदि ऊंचाई के कारण हुई तकलीफ का फौरन इलाज न हो, वह चंद घंटों में जानलेवा साबित हो सकती है।

अमरनाथ यात्रा के दौरान ऊंचाई के कारण होने वाली बीमारियों से बचाव के लिए क्या करें-

1. यात्रा की तैयारी करने के लिए शारीरिक तौर पर चुस्त-दुरूस्त रहें – यात्रा से कम से कम एक महीना पहले तैयारी के तौर पर 4-5 किलोमीटर सुबह/शाम की सैर शुरू करने की सलाह दी जाती है।

2. शरीर की ऑक्सीजन संबंधी दक्षता को बेहतर बनाने के लिए गहरे सांस लेने का अभ्यास और योग, विशेषकर प्राणायाम शुरू कीजिए।

3. ऊंचाई पर जाने से पहले अपने चिकित्सक से जांच कराएं, कहीं आपको को स्वास्थ्य संबंधी कोई परेशानी तो नहीं।

4. ऊंचाई पर चढ़ते समय धीमे चलें और ढलान आने पर कुछ देर आराम करने के लिए रुकिए।

5. अपनी सामान्य क्षमता से अधिक बल लगाने से बचिए।

6. विविध स्थानों पर आवश्यक तौर पर आराम के लिए रुकिए, टाइम लॉगिंग सुनिश्चित कीजिए और अगले स्थान की ओर बढ़ते समय डिस्प्लै बोडर्स पर अंकित चलने के आदर्श समय जितना ही वक्त लगाइये।

7. कोई भी दवा लेने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श लीजिए।

8. पानी की कमी और सिरदर्द से बचने के लिए खूब पानी पीजिए।एक दिन में लगभग 5 लीटर पानी पीजिए।

9. यात्रा क्षेत्र में भोजन करते समय श्राइन बोर्ड की वेबसाइट Shriamarnathjishrine.com पर उपलब्ध निर्धारित फूड मेन्यू का अनुसरण कीजिए।


correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in

%d bloggers like this: