वृद्ध छैलसिंह का उलझा काम मिनटो में सुलझा

जोधपुर, 25 मई। वृद्ध ग्रामीण 65 वर्षीय छैलसिंह का न्याय आपके द्वार में बरसों से उलझा काम मिनटो में ही हो गया तो उसे बरबस विश्वास ही नहीं हुआ कि यह काम इतनी सरलता से व मिनटो में हो गया।

जोधपुर जिले के पीपाड़ शहर उपखण्ड में राजस्व लोक अदालत न्याय आपके द्वार शिविर में जब भरी भीड़ में छैलसिंह निराश अांखों से घूम रहा था तो शिविर प्रभारी रिछपालसिंह बुरड़क ने उसे अपने पास बुलाया। पूछा-‘ बाबा कैसे आए हो! उसने बताया कि ‘म्है चार भाई हां सा, म्हारे जमीन रो बंटवाडो करणौ है, करा देवा तो निहाल हो जासा‘ शिविर प्रभारी ने छैलसिंह के भाईयों को बुलाया। आपसी मन मुटाव खत्म कर सहमति से बंटवाड़ा करने के लिए समझाईश की गई तो उसके भाई भी सहमत हो गए।

उपखण्ड अधिकारी ने पटवारी को बुलाया, खातेदारों के मौके पर किए हुए विभाजन के अनुसार खातेदारी भूमि के बंटवाड़े का प्रस्ताव तैयार कर पेश करने को कहा। पटवारी हल्का द्वारा आपसी रजामंदी से खातेदारी भूमि का बंटवाड़ा प्रस्ताव तैयार किया गया एवं तहसीलदार पीपाड़ शहर के समक्ष चारों भाईयों ने उपस्थित होकर आपसी रजामंदी से बंटवाडा करने बाबत सहमति से हस्ताक्षर किए जिस पर तहसीलदार पीपाड़ शहर ने स्वीकार कर पटवारी हल्का को बंटवाडा का नामांतरकरण भरने के आदेश जारी किए।

इस तरह भूमि विभाजन का नामांतरण संख्या 992 स्वीकार का हाथों हाथ जमाबंदी में अमल दरामद कर सभी खातेदारों को जमाबंदी की नकल दी गई। इस पर छैलसिंह बोल पड़ा ‘वाह भई, काम तो म्हारो घणोंईज सोरो हुयो‘ और इस तरह शिविर अपने उद्देश्य के साथ फिर आगे बढ गया।

इन्द्रोका के किशनसिंह को जब 52 वर्ष बाद मिली खातेदारी

जोधपुर जिले के इन्द्रोका ग्राम पंचायत में किशनसिंह ने एक प्रार्थना पत्र प्रस्तुत कर निवेदन किया कि मेरा नाम राजस्व रिकॅार्ड में मेरे पिताजी के देहांत होने से विरासत के जरिए त्रुटिवश किशोरसिंह दर्ज है जबकि मेरा नाम किशनसिंह पुत्र भूरसिंह है। मेरे नाम की शुद्धि के लिए मैने कई बार आवेदन किया परन्तु मेरा नाम शुद्ध नहीं हो पाया। इस कारण मुझे सभी राजकीय परिलाभों से भी वंचित रहना पड़ा है। इसकी जांच पटवारी द्वारा गहनता से करवाई गई। सही पाए जाने पर किशनसिंह का नाम सही कर आदेश जारी कर दिए गए। इस तरह उसे 52 वर्ष बाद जीवन की इतनी बड़ी खुशी मिली की अॅांखों में खुशी की अांसु छलक पड़े।


correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in

%d bloggers like this: