भगवान विष्णु के भावी दसवें अवतार भगवान कल्कि का मंदिर

जयपुर में एक ऐसा मंदिर है, जहां भगवान विष्णु के भावी दसवें अवतार भगवान कल्कि का मंदिर है। यूं तो इस मंदिर को हैरिटेज प्रोपर्टी भी कह सकते हैं। लेकिन आज सबसे बड़ी विडंबना है कि बहुत लोग इस मंदिर की हकीकत से अछूते हैं। राजा सवाई जय सिंह ने जयपुर बसाने के बाद 1739 ई. में अपने महल के पास ही कल्कि मंदिर बनवाया था।

1739 ई. में राजा सवाई जय सिंह ने कल्कि का मंदिर बनवाया। जानकारी के अभाव में आज यह लुप्त होने की स्थिति में है। विष्णु भगवान के दसवें अवतार माने गए कल्कि का मंदिर हवामहल के पास है। कल्कि जो अब तक प्रकट नहीं हुआ है। यह अवतार हजारों वर्षों के बाद होगा, लेकिन हिंदू धर्म में उनकी परिकल्पना पहले ही कर ली गई थी।

जानकारों का कहना है कि भावी ईश्वर के अवतार को भी साकार कल्पना दे दी गई है। पुराणों में वर्णन है कि कलयुग समाप्त होने के बाद अर्थात आज से हजारों वर्षों बाद विष्णु भारत में कल्कि अवतार लेंगे। वे घोड़े पर सवार होकर तलवार से शत्रुओं का नाश करेंगे।


correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in

%d bloggers like this: