एनडीपीएस एक्ट का सजायाप्ता मुल्जिम अस्पताल से फरार

खाना खाने रिश्तेदारों के साथ बैठा, यूरोलॉजी वार्ड में लाया गया

जोधपुर के सरकारी अस्पतालों में कैदी वार्ड की सुरक्षा भगवान के भरोसे है। यहां पर आए कैदी पुलिस का भरोसा तोडक़र भागने में कामयाब हो रहे है। कभी मंडोर खुली जेल से कैदी फरार हो जाते है, तो कभी अस्पताल के कैदी वार्ड से अपराधी फरार हो जाता है। मगर पुलिस बाद में इनका सुराग तक नहीं ढूंढ पाती। सोमवार को भी एक ऐसा मामला सामने आया है। मथुरादास माथुर अस्पताल के कैदी वार्ड में भर्ती करवाया गया बंदी रिश्तेदारों के साथ खाना खाते फरार हो गया। पुलिस आज दूसरे दिन भी उसका सुराग नहीं ढूंढ पाई है। सोमवार को पुलिस लाइन से हैड कांस्टेबल रामचंद्र, पुलिस कांस्टेबल रघुवीर सिंह, मोहनलाल, रामकरण, शकील, हुकमाराम, महिला कांस्टेबल महर्षि व तेजी कुछ बंदियों को कें द्रीय क ारागाह से लेकर सुबह साढ़े सात बजे रवाना हुए थे। बंदियों का मथुरादास माथुर अस्पताल में मेडिकल परीक्षण करवाया गया। दोपहर दो बजे कुछ बंदियों को केंद्रीय कारागाह में जमा करवा दिया गया। मगर बताया गया कि एक कैदी जुनेजों की ढाणी फलोदी निवासी अब्दूल गनी पुत्र निजामुद्दीन को यूरोलॉजी में जांच ेक बाद बैड नंबर 12 पर भर्ती करवाया गया। उसे यूरिन की समस्या बताई जा रही है। इस बंदी की ड्यूटी के लिए कांस्टेबल रघुवीर सिंह, पूरणमल और मोहनलाल को तैनात किया गया। शाम करीबन पौने सात बजे के करीब कैदी अब्दूल गनी के कुछ रिश्तेदार अस्पताल आए और उसे खाना खिलाने के बहाने अपने साथ रखा ,मगर अब्दूल गनी इस समय मौका पाकर फरार हो गया। बाद में इसकी सूचना पर नाकाबंदी करवाई गई, मगर उसका सुराग हाथ नहीं लगा। पुलिस ने बताया कि कैदी अब्दूल गनी के खिलाफ प्रतापनगर में एक प्रकरण दर्ज है, साथ ही वह नीमच में एनडीपीएस एक्ट के प्रकरण में सजा भी भुगत रहा है।


correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in

%d bloggers like this: