उपभोक्ता कोर्ट ने सुनाए फैसलें

नहीं दिया वाहन काबिल, अब कम्पनी देगी हर्जाना
श्रीगंगानगर। वाहन का बिल नहीं देने के मामले में उपभोक्ता मंच ने बाद सुनवाई आदेश दिया कि कम्पनी बिल सौंपने के साथ-साथ परिवादी को वाद व्यय अदा करे। जसविन्द्र सिंह पुत्र नक्षत्रसिंह निवासी भगवानगढ़ ने मंच को परिवाद देकर बताया कि वीडी मोटर्स से उसने 6 लाख 51,500 रुपए मेें बोलेरो वाहन कैम्पर खरीदा था। वाहन डिलीवरी के समय बताया कि सम्पूर्ण राशि चुकाने पर बिल देंगे। साथ ही 10 हजार का रिफंड देंगे। बाद में कम्पनी बिल और रिफंड देने में आनाकानी करती रही। नोटिस भी भेजा। बाद सुनवाई मंच ने वाहन बिल देने के साथ-साथ बोनस पेटे 10 हजार रुपए 1 महीने में देने का आदेश दिया। इस राशि पर 22 सितम्बर 2015 से अदायगी तक 9प्रतिशत ब्याज दिया जाए। साथ ही कम्पनी वाहन रजिस्ट्रेशन नहीं होने से परिवादी को हुई मानसिक पीड़ा के प्रतिकर स्परुप 20 हजार और वाद व्यय के 3000 रुपए भी अदा करे।
कानूनी डर के चलते किया क्लेम राशि का भुगतान
श्रीगंगानगर। मेडिक्लेम पॉलिसी का पूरा क्लेम नहीं देने के मामले में उपभोक्ता मंच ने बाद सुनवाई वाद व्यय देने का आदेश विपक्षी को दिया है। विद्युत विभाग के तकनीकी सहायक राकेश कुमार पुत्र कृष्णालाल ने मंच को बताया कि उसने विभागीय योजना के तहत मेडिक्लेम पॉलिसी ले रखी है। कैंसर रोगी होने पर होने पर दिल्ली के हॉस्पिटल में उसने उपचार करवाया, जिस पर 4,31,840 रुपए का खर्च आया। मांगने पर 1,71025 रुपए का क्लेम स्वीकृत किया। शेष राशि का भुगतान नहीं किया। मंच ने विपक्षी को नोटिस दिए तो शेष क्लेम पेटे 98875 रुपए का भुगतान किया। सुनवाई में मंच ने पाया कि विपक्षी ने परिवादी को कानूनी डर से शेष राशि का भुगतान किया है। विपक्षी वाद व्यय पेटे 3500 रुपए परिवादी को अदा करे।

correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in

%d bloggers like this: