जल स्वावलम्बन कार्यो को 30 जून तक करे पूर्ण

 

– संभाग प्रभारी मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन योजना

जोधपुर।

जोधपुर संभाग प्रभारी, मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन योजना एवं कृषि आयुक्त डा0 नीरज के. पवन ने कहा कि मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन संबंधी कार्यो को 30 जून से पहले पूर्ण कर मानसून की पहली बूंदों से पहले सभी वाटर स्ट्रक्चर्स तैयार करें।  डा0 नीरज के पवन सोमवार को मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन योजना की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए संभाग स्तरीय अधिकारियों से विचार विमर्श एवं समीक्षा कर रहे थे।उन्होंने सभी वाटर स्ट्रक्चर्स की भौतिक गुणवता को क्वालिटी कंट्रोल विशेषज्ञों की सहायता से समय-समय पर निरीक्षण करवाने के निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री द्वारा सभी वाटर स्ट्रक्चर्स के चारो और पोधारोपण करने के निर्देश दिए गए है। इससे पानी की समस्या दूर होने के साथ ही पर्यावरण की समस्याओं का निवारण तथा प्राकृतिक सुंदरता को बढावा देनंे का उद्देश्य पूरा हो सकेगा। इसलिए वृक्षारोपण किए जाने पर भी पूरा ध्यान दिया जाए। उन्होंने संभाग के सभी अधिकारियों को व्यक्तिगत नाडी निर्माण कार्यो के संबंध में निर्देश दिए कि किसानों को हॅार्टीकल्चर फसलों तथा स्प्रिंलकर पद्धति का प्रयोग करने को प्रेरित करें। योजना के तहत बनाए गए वाटर स्ट्रक्चर्स का आने वाले समय में विवेकपूर्ण उपयोग करने के लिए जन जागृति  के लिए भी प्रोत्साहित करें।उन्होने अधिकारियों को योजना के तहत पूर्ण हो चुके कार्यो के फोटोग्राफ्स अपलोड करने के कार्य को प्राथमिकता देने के निर्देश दिए। उन्होंने वाटर स्ट्रक्चर्स के आसपास के क्षेत्र में राशियों के आधार पर राशिवन, नवग्रहो के आधार पर नवग्रह वन तथा नक्षत्र वनों का विकास करने का सुझाव दिया। साथ ही चारागाह भूमि पर पंचवटी के पंाच वृक्षों को विकसित कर इन स्थान विशेष को पर्यटन का आकर्षण बिन्दु बनाने के सुझाव दिए। सभी अधिकारियों को योजना के तहत संाकेतिक ही नहीं बल्कि वास्तविक श्रमदान कर अपने कर्तव्यों का निष्ठापूर्वक पालन करना चाहिए।  बैठक में बताया गया कि जोधपुर जिले में मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन योजना के तहत 34 ग्राम पंचायतों के 63 गांवों में कुल 3350 कार्यो में से 1526 कार्य पूर्ण किए जा चुके है जिसमें डब्लू डी एस सी के 1640 कार्यो में से 924 कार्य पूर्ण किए जा चुके है। नरेगा के 303 कार्यो में से 10 कार्य पूर्ण किए जा चुके है। कृषि विभाग के तहत 712 कार्यो में से 498 कार्य पूर्ण किए गए इसमें 6 खेत तराई निर्माण, 440 मिनिकिटस, 22 महिलाओं का प्रशिक्षण, 8 किसानों को पाईप लाईन, 87 मिनी फव्वारा, 1280 स्प्रिंकलर्स आदि दिए जा चुके है। पी एच ई डी विभाग के 24 कार्यो में से 18 कार्य चल रहे है। इसी प्रकार सिंचाई विभाग के 16 कार्यो में से 9 कार्य पूर्ण किए जा चुके है। वन विभाग के 5 कार्यो को प्रारंभ कर दिया गया है तथा हॅार्टीकल्चर के 43 कार्यो में से 21 कार्य पूर्ण किए गए है। इसी प्रकार पाली जिले में 1596 कार्यो में से 511 कार्य, सिरोही में 1321 कार्यो में से 995 कार्य प्रारंभ हो चुके है साथ ही जैसलमेर में 1506 कार्यो में से 1244 कार्य प्रारंभ होने के साथ 401 कार्य पूर्ण किए गए है। जालौर में 1348 कार्य प्रारंभ कर 593 कार्य पूर्ण किए जा चुके है। बैठक में डी पी आर के कार्यो तथा उपलब्ध वित्तीय संसाधनों में गैप की समीक्षा की गई तथा इस अभियान में अधिकाधिक जन सहयोग की सहायता को जोड़ने के विषय पर विचार किया गया। बैठक में जिला कलक्टर जोधपुर बिष्णु चरण मल्लिक, मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिला परिषद संदेश नायक सहित योजना से जुड़े विभागों के संभाग स्तरीय अधिकारियों ने भाग लेकर विचार विमर्श किया।


correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in

%d bloggers like this: