निजी क्षेत्र की मुद्रण संभावना तलाशें

 

जयपुर।

सहकारी समितियों की रजिस्ट्रार डॉ. रेखा गुप्ता ने सहकारी मुद्रणालय में निजी क्षेत्र के मुद्रण कार्य की संभावनाएं तलाशने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार ने सहकारी मुद्रणालय को राजकीय मुद्रणालय के समकक्ष दर्जा प्रदान किया है।डॉ. रेखा गुप्ता ने सहकारी मुद्रणालय के प्रशासक का कार्यभार संभालने के बाद मुद्रणालय का जायजा लिया और कार्य प्रणाली की जानकारी ली। उन्होंने हाल ही समाप्त हुए वित्तीय वर्ष में रेकार्ड कारोबार पर प्रसन्नता व्य€त की। उन्होंने कहा कि सहकारी मुद्रणालय गुणवत्ता और निजी क्षेत्र के समकक्ष प्रतिस्पर्धा में मुद्रण कार्य कर अपनी पहचान बनाए रखें।सहकारी मुद्रणालय के प्रबंध संचालक  एम.एल. गुर्जर ने बताया कि सहकारी मुद्रणालय ने वर्ष 2015-16 में 21 करोड़ 30 लाख से अधिक का मुद्रण कार्य कर कीर्तिमान बनाया है। मुद्रणालय निरंतर लाभ में काम कर रहा है और मुद्रणालय का संचित लाभ 7 करोड़ रुपए से अधिक का हो गया है।गुर्जर ने बताया कि सहकारी मुद्रणालय द्वारा बहुरंगी प्रकाशन के साथ ही सहकारी, सरकारी व राजकीय उपक्रमों के महत्वपूर्ण दस्तावेजों, पुस्तिकाओं, फोल्डर, पोस्टर आदि का प्रकाशन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि मुद्रणालय की दरें भी राज्य सरकार के वित्त विभाग द्वारा तय की जाती है।सहकारी मुद्रणालय के महाप्रबंधक श्री सुनील दत्त शर्मा ने सहकारी मुद्रणालय में प्रकाशन प्रक्रिया की विस्तार से जानकारी दी। इस अवसर पर अतिरि€त रजिस्ट्रार  सुरेन्द्र सिंह वजी.एल. स्वामी भी उपस्थित थे।


Desert Time

correspondent

DesertTimes.in

DesertTimes.in

%d bloggers like this: